नौजवान उच्च शिक्षा के बाद भी दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर है : शशांक शेखर सिंह

युवा कार्यकर्ता सम्मेलन, संगठनात्मक बैठक व संवाद कार्यक्रम का हुआ आयोजन
 
 | 
युवा कार्यकर्ता सम्मेलन, संगठनात्मक बैठक व संवाद कार्यक्रम का हुआ आयोजन

अवधनामा संवाददाता

आजमगढ़ (azamgarh)। राष्ट्रवादी युवा अधिकार मंच के तत्वावधान में अतरौलिया विधानसभा के भटौली स्थित एक कॉलेज में युवा कार्यकर्ता सम्मेलन, संगठनात्मक बैठक व संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया गया। सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष शशांक शेखर सिंह पुष्कर ने कहा कि नौजवानों की भूमिका व भागीदारी को लेकर तमाम गोष्ठियां व परिचर्चा होती रही लेकिन नौजवानों की भूमिका को महज वोट बैंक और प्रचार तंत्र तक ही सीमित रखा गया। भागीदारी के नाम पर देश की आबादी के 65 से 70 प्रतिशत नौजवानों को राजनैतिक लाभ के दृष्टिकोण से जातिगत व धार्मिक उन्माद पैदा कर नौजवानों की ऊर्जा का दुरुपयोग किया गया जिसका परिणाम रहा कि अभी तक युवाओं की न तो कोई नीति बन पाई और न ही युवाओं का कोई आयोग ही। उन्होने कहाकि देश का नौजवान बीटेक, एमटेक, एमसीए, बीएड, एमबीए जैसी उच्च शिक्षा ग्रहण करने के बाद भी नौजवान दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर है। नौजवानों की योग्यता का अपमान करते हुए आउटसोर्सिंग जैसी कुप्रथा के माध्यम से बधुआ मजदूर बनाया जा रहा है। मंच का मानना है कि प्रतियोगी परीक्षाएं निशुल्क एवं रोजगार न मिलने तक बेरोजगारी भत्ता तथा प्रारंभिक शिक्षा के दौरान ही यदि योग्यता के आधार पर रोजगार सृजन की व्यवस्था की जाए तो बड़े पैमाने पर बेरोजगारी पर लगाम लगाया जा सकता है। उन्होने कहाकि परिवार में कम से कम एक सदस्य को सरकारी नौकरी या योग्यता व क्षमता के आधार पर लघु उद्योग, मध्यम उद्योग, गृह उद्योग, भारी उद्योग के माध्यम से रोजगार उन्नयन की दिशा में विस्तृत कार्य योजना तैयार कर भविष्य की चुनौतियों से निपटा जा सकता है। राजनीतिक पार्टियां सत्ता में रहते हुए तो रोजगार की बात करती हैं और विपक्ष में रहते हुए बेरोजगारी की बात लेकिन राजनीतिक दलों को बेरोजगारी जैसी समस्या से निपटने के लिए कोई ठोस कार्य योजना पर कार्य करने की मंशा नहीं है। कहाकि राष्ट्रवादी युवा अधिकार मंच के बैनर तले प्रदेश एवं देश के नौजवानों को एकजुट होकर देश व प्रदेश के नौजवानों के भविष्य को संरक्षित करते हुए युवा आधारित नीति के तहत राष्ट्रीय युवा आयोग के गठन व राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना का गठन करके नौजवानों के प्रतिभा योग्यता के सम्मान के साथ साथ अभिभावकों को भी शोषण से मुक्त किया जा सकता है। वर्तमान में नई पीढ़ी को राजनैतिक दलों से ऊपर उठकर राष्ट्रहित में निजीकरण जैसे अन्य मुद्दों का विरोध होना चाहिए।
           युवा कार्यकर्ता सम्मेलन व संवाद कार्यक्रम को कई पंचायत प्रतिनिधियों एवं विद्वतजनों ने भी संबोधित किया और संगठन के मुहिम को आगे बढ़ाने की बात ही। गांव -गांव युद्ध स्तर पर नौजवानों को जोड़ने का कार्य किया जाएगा। कार्यक्रम का संचालन छात्र नेता बृजेश सिंह मोनू एवं अध्यक्षता कोयलसा प्रधान संघ अध्यक्ष अमरनाथ सिंह ने किया।
इस मौके पर छात्र नेता विपिन सिंह,माधव चौबे, राजेश राम प्रधान, क्षेत्र पंचायत सदस्य मांतवर राम, विवेक सिंह, अनुराग सिंह, प्रमोद सिंह, शिवसागर सिंह, वशिष्ठ चौबे, महेंद्र यादव, विनोद निषाद, प्रदीप मौर्या प्रधान मो0 आबिद, गुलाब सिंह, उमेश सिंह, अवनीश सिंह, पिंकू सिंह, नगेंद्र यादव, मुन्ना सिंह, सुशील कुमार सिंह, अर्जुन सोनकर प्रधान आदि लोग मौजूद रहे।