जब अपनों ने छोड़ा साथ तब बीआरडी ने किया अंतिम संस्कार

 | 
जब अपनों ने छोड़ा साथ तब बीआरडी ने किया अंतिम संस्कार

अवधनामा संवादाता

आजमगढ़।  सिधारी के सुंदर नगर कॉलोनी में अपनी दो बेटियों के साथ लोगों के घरों में बर्तन धोने व झाड़ू पोछा करके जीवन यापन करने वाली उषा गुप्ता का देहांत होने पर किसी परिचित या रिश्तेदार के न आने की सूचना मिलते ही आज सुबह भारत रक्षा दल के कार्यकर्ताओं ने मृतका का दाहसंस्कार कराया।
       बताया जाता है कि मृतका उषा गुप्ता अपनी दो बेटियों व बूढ़ी मां के साथ सिधारी पर किराए के मकान में रहकर लोगों के घरों में साफ सफाई बर्तन धो कर जीवन यापन कर रही थी इसी बीच उषा देवी की तबीयत खराब  हुई, कल 22 दिसंबर की शाम सदर हॉस्पिटल में उषा देवी की मृत्यु हो गई उनकी दो बेटियों और बूढ़ी मां  ने रिश्तेदारों और पाटीदारों को सूचना दिया पर कोई नहीं आया। रात भर मृतक शरीर के साथ  तीनों हॉस्पिटल में बैठी रहीं, सुबह इसकी सूचना एंबुलेंस वाले ने भारत रक्षा दल को दिया जिस पर तुरंत भारत के रक्षा दल के कार्यकर्ता राजघाट पहुंचकर सारी व्यवस्था उपलब्ध कराते हुए बच्चियों को साथ लेकर बेटियों से मां को कंधा दिलाया,  और मृतका की बड़ी बेटी से मुखाग्नि   दिलाकर मृतका का अंतिम संस्कार कराया, इस अवसर पर उपस्थित भारत रक्षा दल के प्रदेश अध्यक्ष हरिकेश विक्रम श्रीवास्तव ने कहा कि समाज में इस तरह की परिस्थिति उत्पन्न होना बड़ा ही दुखद है ।आज के इस काम में प्रमुख रूप से जावेद अंसारी, प्रदीप सिंह, रवि विश्वकर्मा, नंदलाल यादव,अमित  कुमार गुप्ता, उमेश सिंह गुड्डू ,दिनेश राय, सोनू यादव, मनोज यादव ,डब्बू गुप्ता ,उपस्थित रहे।