जन सहयोग से हरी भरी पृथ्वी सजाने का कार्य मानव जीवन को लंबा जीवन देने के लिए आवश्यक है -ऋषिकेश उपाध्याय

 | 
जन सहयोग से हरी भरी पृथ्वी सजाने का कार्य मानव जीवन को लंबा जीवन देने के लिए आवश्यक है -ऋषिकेश उपाध्याय
अवधनामा संवाददाता
अयोध्या। अखिल भारतीय महापौर परिषद की राष्ट्रीय बैठक के दूसरे दिवस बैठक का शुभारंभ करते हुए विख्यात पर्यावरणविद् गोपाल आर्य ने देश में विभिन्न प्रांतों की महापौरों का आह्वान करते हुए कहा कि राष्ट्र में इस भाव को जागृत करना आवश्यक है कि मैं उस देश का वासी हूं जिस देश में गंगा बहती है। जल प्रदूषण वायु प्रदूषण मानव जीवन के लिए घातक ही नहीं मानवता की सबसे बड़ी पीड़ा है। पर्यावरण संरक्षण के लिए इको सिस्टम को लागू नहीं किया गया तो विश्व के लिए पर्यावरण की समस्या सबसे बड़ी चुनौती होगी। बिना वित्तीय उपलब्धता के जन सहयोग के माध्यम से स्वच्छ घर, हरित घर, खुशहाल घर की संकल्पना को साकार कर पर्यावरण संरक्षण जन आंदोलन बनाया जा सकता है। अखिल भारतीय 
महापौर परिषद के समापन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री राम मंदिर आंदोलन के महान मनीषी चंपत राय ने बैठक में उपस्थित विभिन्न राज्यों के महापौरों को संबोधित करते हुए कहा कि भारत के इतिहास में राम जन्म भूमि का आंदोलन आत्मसम्मान और हक के लिए संघर्ष की प्रेरणा देता है। जिससे कि आने वाली पीढ़ियों के रक्त में आत्मसम्मान राष्ट्रीयता और भारतीय संस्कृति के प्रति संचार होगा और देश के प्रति धर्म के प्रति मानवीय कर्तव्यों के प्रति समाज में वातावरण भी सृजित होगा। 
उन्होंने अयोध्या के गौरवमयी प्राचीन इतिहास का उल्लेख करते हुए कहा कि कि इस पुण्य भूमि की महान जनता ने त्याग तपस्या और सेवा से यह शुभ अवसर दिन उपलब्ध कराया है की ऐतिहासिक राम मंदिर का निर्माण तेजी से चल रहा है। मंदिर के निर्माण में पर्यावरण संरक्षण जल संरक्षण की सर्वोच्च प्राथमिकता रखी गयी है। प्रभु श्री राम के मंदिर निर्माण में सिर्फ और सिर्फ पत्थरों का ही उपयोग होगा इसमें किसी भी प्रकार के लोहे का प्रयोग नहीं किया जाएगा। मंदिर निर्माण की अवधारणा में न्यूनतम 1000 वर्ष आयु की मजबूती को आधार मानकर सुयोग्य आर्किटेक्चर इंजीनियरों की सेवाएं भी ली जा रही है। राम मंदिर निर्माण में देश के करोड़ों राम भक्तों ने ₹10 से लेकर अपनी सामर्थ्य के अनुसार उदारता पूर्वक समर्पण धनराशि प्रदान किया है। इतने कम समय में श्रीराम के भक्तों ने योगदान कर विश्व स्तर पर ख्याति प्राप्त की है। कार्यक्रम के शुभारंभ में नगर निगम अयोध्या के महापौर ऋषिकेश उपाध्याय ने मुख्य अतिथि सहित सभी मंचासीन अतिथियों को तुलसी का पौधा भेंटकर रामनामी अर्पित कर अयोध्या की गरिमा के अनुकूल सम्मानित किया। अखिल भारतीय महापौर परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष नवीन जैन ने दो दिवसीय बैठक में लिए गए निर्णय और आपसी विचार विमर्श के उपरांत प्रभावी रणनीति के संदर्भ में उद्बोधन करते हुए कहा कि 1974वा संशोधन देश के सभी राज्यों में लागू हो संपूर्ण देश के नगर निगमों में महापौरों का कार्यकाल 5 वर्ष होना चाहिए। जिससे जन आकांक्षाओं की पूर्ति के लिए पर्याप्त समय प्राप्त हो सके। मानव जीवन को शुद्ध वायु जल प्राकृतिक वातावरण वातावरण प्राप्त हो किसके लिए देशभर के सभी नगर निगमों में जन सहयोग के माध्यम से हरित घर हरित नगर हरित मार्ग हरित गली हरित पार्क की अवधारणा को सफलीभूत करने के लिए जन आंदोलन बनाया जाएगा। श्री जैन ने अयोध्या के महापौर एवं राष्ट्रीय बैठक के मेजबान ऋषिकेश उपाध्याय की प्रशंसा एवं आभार व्यक्त करते हुए कहा कि देश के विभिन्न नगर निगमों में पधारे महापौरों का सम्मान, सुख सुविधा, दर्शन, पूजन कराया वह अपने आप में अद्भुत और प्रशंसनीय है। श्री उपाध्याय किस राष्ट्रीय बैठक के संपूर्ण आयोजन में जो प्रतिबद्धता सक्रियता एवं योगदान प्रदर्शित किया है। उसके लिए अखिल भारतीय महापौर परिषद मुक्त कंठ से प्रशंसा करते हुए आभार प्रकट करती है। श्री जैन ने बैठक में प्रतिभाग करने वाले सभी महापौरों का आवाहन करते हुए कहा कि प्रभु श्री राम की जन्म स्थली अयोध्या की पावन भूमि पर आयोजित इस बैठक में संकल्पित एवं निर्धारित विचारों को और महत्वपूर्ण कार्यक्रमों को जन सहभागिता सुनिश्चित कर अपने-अपने दायित्वों का निर्वहन करना होगा।
नगर निगम अयोध्या के महापौर ऋषिकेश उपाध्याय ने सभी महापौरों को स्मृति चिन्ह एवं प्रसाद प्रदान करते हुए अपने संबोधन में कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष ने  महापौरों की बैठक श्री अयोध्या धाम में आयोजित करने का जो अवसर दिया  उसके माध्यम से सेवा का अवसर प्राप्त हुआ उसके लिए परिषद के प्रति अपनी कृतज्ञता व्यक्त करता हूं। हम अयोध्यावासी अतिथि महापौरों का आभार व्यक्त करते हैं कि वह अयोध्या पधारें, और अपने नगर के विकास के प्रति संकल्प व्यक्त किया। श्री उपाध्याय ने कहा कि जन सहयोग से हरी भरी पृथ्वी सजाने का कार्य मानव जीवन को लंबा जीवन देने के लिए आवश्यक है। पर्यावरण के लिए और नगर में स्वच्छता के लिए जनसाधारण बेहद अहम है बिना जन सहयोग के पर्यावरण संरक्षण स्वच्छता जैसे पर्यावरण जैसे अहम मानव जीवन के कार्य संभव नहीं है।
 उन्होंने अयोध्या सहित देश के नगर निगम के नागरिकों से आवाहन करते हुए कहा कि आपके एक-एक मत से चुना गया मेयर पूर्णरूपेण कर्तव्य की सार्थकता आपके सक्रिय योगदान के बिना नहीं कर सकता है। राष्ट्रीय बैठक के समापन समारोह को श्री उमाशंकर गुप्ता पूर्व मेयर पूर्व मंत्री मध्य प्रदेश सरकार, उमेश गौतम मेयर बरेली,  दयाशंकर चंद्रशेखर तिवारी महापौर नागपुर श्रीमती नूतन राठौर महापौर फिरोजाबाद  एजाज धेबर महापौर रायपुर छत्तीसगढ़, चंद्र मोहन सिंह जम्मू कश्मीर, मुरलीधर मोहल महापौर पुणे मंजू मेहरा कोटा राजस्थान, नीली क्षत्री गंगटोक सिक्किम, सुनील उनियाल देहरादून, हेमाली काजपेस घोघावाला सूरत, नारायणदास रोकडिया बड़ौदा सहित अलीगढ़ प्रयागराज गोरखपुर झांसी मुरादाबाद आगरा गाजियाबाद कानपुर लखनऊ के महापौरों ने समापन समारोह को संबोधित किया समारोह का कुशल संचालन श्री ज्ञानेंद्र सिंह एवं बैठक की व्यवस्था वेंकट सूद की टीम का उल्लेखनीय योगदान रहा