प्रयागराज गंगा में सिफरी द्वारा तीस हजार मत्स्य बीज छोडा गया : दुकानजी

 | 
  प्रयागराज गंगा में सिफरी द्वारा तीस हजार मत्स्य बीज छोडा गया  : दुकानजी
अवधनामा संवाददाता

प्रयागराज । भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद-केन्द्रीय अन्तर्स्थलीय मात्स्यिकी अनुसंधान संस्थान  सिफरी प्रयागराज के द्वारा आज दिनांक 15 नवम्बर 2021 को पवित्र पावन गंगा और यमुना के संगम तट पर गंगा नदी में विलुप्त हो रहे मत्स्य प्रजातियों के संरक्षण एवम् संवर्धन को ध्यान में रखते हुए गंगा नदी में 30000 (तीस हजार) भारतीय प्रमुख कार्प कतला रोहू मृगल मछलियों के अंगुलिका बीज को रैंचिंग कार्यक्रम के तहत छोड़ा गया, राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन (एन एम सी जी) के अन्तर्गत आयोजित इस कार्यक्रम में स्ंस्थान के केन्द्राध्यक्ष डा० डी एन झा ने उपस्थित लोगों का स्वागत किया तथा गंगा नदी के बारे में संक्षिप्त में बताया,संस्थान के निदेशक तथा अतिथि डा० बसंत कुमार दास ने सभा को नमामि गंगे परियोजना के बारे में जानकारी दी जिसके अन्तर्गत पुरे गंगा नदी में कम हो रहे महत्वपूर्ण मत्स्य प्रजातियोें के बीज का रैंचिंग होना रखा है साथ ही लोगो को गंगा के जैव विविधता अैार स्वच्छता के बारे में जागरूक करना है कार्यक्रम के मुख्य अतिथि  डा०  कृष्ण जेना  उपमहानिदेशक मात्स्यिकी भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद  नई दिल्ली नेे समारोह को सम्बोधित करते हुए गंगा नदी में मछली और रैंचिंग के महत्व तथा मछुआरों के आजीविका बढ़ाने के उपायों को बताया और मछुआरों को मछली पकड़ने के लिए जाल वितरित किया कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में  कविता त्रिपाठी  समाज सेविका ने भाग लिया और गंगा के महत्व को बताया उन्होने गंगा को स्वच्छ रखने एवम जैव विविधता को बचाने के लिए उपस्थित लोगो से आह्वान किया,उन्होनें संस्थान द्वारा प्रकाशित पुस्तिकाओं का विमोचन किया इस अवसर पर नमामि गंगे के संयोजक गंगा विचार मंच  राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन  एवं नगर गंगा समिति प्रयागराज के सदस्य राजेश शर्मा ने गंगा को स्वच्छ रखने के लिए सभी को शपथ दिलाया तथा अन्य वक्ताओं ने भी सभा को सम्बोधित किया गंगा स्नान करने आये स्नानार्थियों और मछुआरों ने भी सभा में अपनी बातों को रखा और सभी ने गंगा के प्रति जागरूक होने के साथ ही गंगा को स्वच्छ रखने का संकल्प व्यक्त किया कार्यक्रम में नमामि गंगे गंगा विचार मंच भारतीय वन्यजीव संस्थान गंगा प्रहरि नगर गंगा समिति माँ गंगा सेवा समिति  तीर्थयात्री आस पास गाव के मत्स्य पालक मत्स्य व्यवसायी तथा गंगा तट पर रहने वाले स्थानीय लागों ने भाग लिया  कार्यक्रम के अन्त में संस्थान के वैज्ञानिक डा० अबसार आलम ने धन्यवाद ज्ञापन करते हुए आश्वस्त किया कि समाज के भगीदारी से हम इस परियोजना के उद्देष्यों को पाने में सफलता प्राप्त करेंगे  संस्थान के वैज्ञानिक डा० वेंकटेश ठाकुर ने रैंचिंग के लिए मछलियों का प्रबन्धन किया ईसी क्रम में नगर निगम के स्वच्छता ब्रांड एम्बेसडर समाजसेवी राजेन्द्र कुमार तिवारी दुकानजी ने गंगा स्वच्छता परिधान पहनकर घूम घूम कर लोगों के साथ मछली पकड़ने वाले लोगों से अपील किया गंगा मे छोडे गये मछली के बिज को तिन महिने तक न पकडे न मारे ये मछलियाँ गंगा को प्रदूषण होने से बचाती है जो हमे आपको हमेशा अम्रित जल प्रदान करने मे सहायक होती है ईसमे संस्थान के अन्य वैज्ञानिक अधिकारी शोधार्थी आदि ने भाग लिया और सभा को सम्बोधित किया