उपेक्षा के दलदल को बना दिया बेहद खूबसूरत पर्यटन स्थल

संसदीय कार्यकाल से सीएम योगी आदित्यनाथ का ड्रीम प्रोजेक्ट रहा रामगढ़ताल और समीपस्थ क्षेत्रों का कायाकल्प

 | 
उपेक्षा के दलदल को बना दिया बेहद खूबसूरत पर्यटन स्थल

अवधनामा संवाददाता 

गोरखपुर । एक समय तक बेहद उपेक्षित और बदहाल रामगढ़ताल और इसके आसपास का क्षेत्र वर्तमान में गोरखपुर की नई पहचान है। जिस स्थान की भौगोलिक पहचान गंदगी, बदबू, दलदली जमीन और व्यावहारिक परिचय अपराधियों के सैरगाह की थी, वह बीते करीब पांच साल में निखरी खूबसूरती और तमाम सौगातों से आमजन और सैलानियों की शीर्ष पसंद बन चुका है। यह नए गोरखपुर का नया सवेरा है तो सतरंगी रोशनी से नहाई शाम भी। ऐसा होना भी था क्योंकि रामगढ़ताल और इसके आसपास के स्थानों को शानदार पर्यटक स्थल के रूप में विकसित करना मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का ड्रीम प्रोजेक्ट था, उनके संसदीय कार्यकाल के शुरुआत से। कायाकल्प हुआ तो नव वर्ष का जश्न मनाने के लिए यह पूर्वी उत्तर प्रदेश के लोगों का सबसे पसंदीदा पर्यटक स्थल बन गया है।

1700 एकड़ में फैला रामगढ़ताल एक विशाल नैसर्गिक झील के रूप में गोरखपुर को प्रकृति के उपहार स्वरूप है। पर, वर्ष 2017 के पहले तक बाहर के लोगों की कौन कहे, शहर के लोग भी ताल के किनारे से होकर जाना पसंद नहीं करते थे। कारण, शहर के अपशिष्ट का एक बड़ा हिस्सा इस ताल में गिरता था। इससे यह ताल बुरी तरह गंदा था और यहां से उठने वाली दुर्गंध मन खिन्न कर देती थी। उस पर सालभर ताल जलकुंभी से पता रहता था। इस ताल और इससे समीपस्थ स्थानों के सुंदरीकरण को लेकर योगी आदित्यनाथ अपने पहले संसदीय कार्यकाल 1998 से ही प्रयासरत रहे। 2017 में मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्होंने न केवल अपने इस ड्रीम प्रोजेक्ट के लिए बजट की व्यवस्था कराई बल्कि इसके सभी कार्यों की निरंतर मॉनिटरिंग भी करते रहे। इसका शानदार नतीजा सबके सामने है।

सीएम योगी की मंशानुरूप रामगढ़ताल के जलशोधन के लिए एसटीपी लगाए गए हैं। साथ ही ड्रेजिंग कराकर व जलकुंभी से मुक्त कराकर ताल के जल को निर्मल बना दिया गया है। ताल के किनारों पर बोल्डर पिचिंग, रेलिंग और इससे सटे मार्ग का चौड़ीकरण, शानदार व म्यूजिकल लाइटिंग से इसका सौंदर्य निखर उठा है। इस ताल को पर्यटन स्थल बनाने के लिए लेक व्यू पॉइंट, नौकायन केंद्र, सेल्फी पॉइंट जैसे स्थल भी विकसित किए गए हैं। अब यह पूरा क्षेत्र ऐसा भव्य दिखता है कि कोई इसे मुंबई के मरीन ड्राइव सरीखा कहता है तो कोई जुहू चौपाटी। छुट्टियों के दिन व नववर्ष पर तो ताल के तट पर जनसमुद्र सा नजारा दिखता है। एक खास बात यह भी है कि इस नए पर्यटन स्थल पर लगने वाली विविध खानपान की दुकानों से सैकड़ों की संख्या में लोगों को रोजगार मिला है। 

वाटर स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स से लगा क्षेत्र की खूबसूरती में चार चांद

रामगढ़ताल का कायाकल्प कराने के साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसके समीप ही एक विश्वस्तरीय वाटर स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स का निर्माण कराया है। इसका उद्घाटन गुरुवार को उन्होंने खुद किया। इस वाटर स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर की जल क्रीड़ा प्रतियोगिताओं और उनके प्रशिक्षण का अवसर मिलेगा। साथ ही कई तरह के नावों से रामगढ़ताल में जल विहार, वाटर स्किनिंग, वाटर बाइकिंग आदि का आनंद भी मिलेगा। पूरे प्रदेश के लिए यह सार्वजनिक क्षेत्र का पहला वाटर स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स है।