अन्नदाताओं के चबूतरे पर दबंगों का कब्जा, जिम्मेदारों ने टेके घुटने

चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी त्रिभुवन यादव नवीन सब्जी मंडी कर रहा अवैध धन उगाही

 | 
अन्नदाताओं के चबूतरे पर दबंगों का कब्जा, जिम्मेदारों ने टेके घुटने

अवधनामा संवाददाता

गोसाईगंज - अयोध्या। कहा जाता है कि अन्नदाताओं की सुनवाई कहीं नहीं होती है। उसकी सुविधा के लिए जो संसाधन उपलब्ध कराए जाते हैं उन पर दबंगों का कब्जा रहता है। इसकी बानगी गोसाईगंज नवीन सब्जी मंडी एवं फल मंडी में दिखाई दे रही है। किसानों के लिए बने नीलामी चबूतरों पर वहां के कुछ दबंग सब्जी व फल व्यवसाइयों का कब्जा है। इसे हटवाने के लिए किसान व कुछ व्यापारी विगत कई माह से लड़ाई लड़ रहे हैं लेकिन इन्हें जिम्मेदार अधिकारियों के यहां केवल तारीख पर तारीख मिल रही है। वही मजेदार तथ्य यह है कि बिना नीलामी के 28 कमरे बने हैं उसी में नया टीन शेड चबूतरे बने हैं उस पर अराजक तत्वों द्वारा अपना कब्जा कर लिया गया है अब्बा का दिन लोगों का नाम भी अंकित कर दिया गया लेकिन सचिव महोदय के अनुसार जब पूछा गया तो उन्होंने बताया कि अभी यह तीन शेट किसी के नाम अंकित नहीं किया गया यह चबूतरा किसानों के धान गेहूं खरीद खाद्यान्न के लिए बनाया गया है। इस पर भी अवैध तरीके से मंडी के एक चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के मिलीभगत से बैठा दिया गया है लेकिन जब कर्मचारी से पूछा जाता है तो वह बताते हैं क्रोध सबको हटाया जाता है लेकिन कोई हटने को तैयार नहीं रहता लेकिन सूत्र बताते हैं यह कर्मचारी इन्हें काफी मोटी रकम भी दिए हैं चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी का नाम त्रिभुवन यादव है जो नवीन मंडी का सारा काम यही देखता है जिम्मेदार अधिकारी आंख बंद किए मौन रहते हैं। सरकार के सपनों पर पानी फेर रहा है मंडी समिति का चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी त्रिभुवन यादव

सोमवार को क्षेत्र से मंडी में सब्जी बेचने आए रामसुमेर का कहना है कि वह मंडी में करीब आठ बजे सुबह पहुंच गए। धूप में खड़े होकर व्यापारियों के हाथ अपनी सब्जी बेचने को मजबूर होना पड़ा। इसी क्षेत्र से आए पवन कुमार ने बताया कि नीलामी चबूतरा पर कब्जा होने की वजह से उनकी सब्जियों के मूल्य की बोली नहीं लग पाती है। ऐसे में एक-दो व्यापारियों के हाथ औने-पौने मूल्य पर अपनी सब्जी बेचने को मजबूर होते हैं। किसान मो. हनीफ बताते हैं कि चबूतरों पर कब्जा होने से उन लोगों को बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इसके लिए कई बार शिकायतें की गईं लेकिन अधिकारी केवल आश्वासन देकर चुप रहते हैं। फल एवं सब्जी व्यवसाई नूर मोहम्मद, चांद मोहम्मद, मो. इरशाद, मो. रशीद, मो. शरीफ आदि ने बताया कि नीलामी चबूतरों पर अवैध कब्जों को हटाने के लिए मंडी सचिव व सिटी मजिस्ट्रेट तथा डीएम से कई बार शिकायत दर्ज कराई गई लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। यहां पर एक चतुर्थ श्रेणी का कर्मचारी है उसी के इशारे पर सारा काम होता है और सब्जी लगाने के एवज में मोटा रकम भी लेता है।फल एवं सब्जी मंडी में बनाए गए तीन नीलामी चबूतरों का मुख्य उद्देश्य है कि बाहर से आने वाले किसान अपनी सब्जी व फल को इन्हीं छायादार नीलामी चबूतरों पर रखकर खुली बोली करा सकें। इससे किसानों द्वारा लाए गए सब्जी व फल की खरीद के लिए कई व्यापारी एकत्र होंगे और किसानों को उनकी गाढ़ी कमाई का उचित दाम बोली के माध्यम से मिल सकेगा। वहीं दूसरी तरफ नवीन सब्जी मंडी में 28 कमरे नए बनाए गए हैं जिसका नीलामी में 9 नवंबर दिन मंगलवार को सुबह 11 बजे मंडी सचिव सचिव अन्य अधिकारियों के देखरेख में सुनिश्चित किया गया है। जिसकी पूरी तैयारियां कर ली गई है।