कट्टा सटाकर 5 बकरियां उठा ले गए बदमाश

 | 
कट्टा सटाकर 5 बकरियां उठा ले गए बदमाश

अवधनामा संवाददाता 

जौनपुर। जिले में आए दिन बदमाश पुलिसिया व्यवस्था को चुनौती दे रहे हैं। लगातार वारदातो को अंजाम देकर आसानी से निकल जा रहे है और पुलिस देखती ही रह जाती है। इसी तरह का एक मामला सरायख्वाजा थाना क्षेत्र में देखने को मिला।  पतहना गांव में बीती रात दो बजे पिकअप  सवार बदमाशों ने सड़क के किनारे बसे एक गरीब परिवार के घर पर धावा बोल दिया। तीन चार की संख्या मे रहे बदमाशो ने गरीब के सीने पर कट्टा और पिस्टल रखकर 5 बकरियां वहां उठा ले गए। जाते-जाते बदमाशों ने यह धमकी भी दिया कि अगर किसी से शिकायत करोगे तो जान से मार देंगे। इससे कुछ दिन पहले भी इसी प्रकार की घटना उनके घर पर हो चुकी है।
 राजनीति में बढ़ कर हिस्सा ले: आशीष चौरसिया
जौनपुर।  रविवार को चौरसिया समाज की बैठक हुई ,अध्यक्षता बृज राज चौरसिया ने किया । समाज के प्रदेशाध्यक्ष   आशीष चौरसिया ने शिक्षा को बढ़ावा देने व राजनीति में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेने के लिए अपने समाज को प्रेरित किया । सुनील चौरसिया ने आपस में एकजुट होकर रहने के लिए सुझाव दिए । छोटेलाल चौरसिया ने मांग किया की जो पार्टी चौरसिया समाज का सम्मान करेगी   समाज उसी के साथ सम्मान पूर्वक रहेगा । उन्होने कहा कि सहयोग शब्द सह $ योग दो शब्दों के मेल से बना है, इसका अर्थ है एक दूसरे का साथ देना या हाथ बटाना। सहयोग से मानव की शक्ति कई गुना बढ़ जाती है।जैसे एक तिनका कमजोर होता है मगर कई तिनको के आपस परस्पर मेल से मदमस्त हाथी को बांधने वाला एक मजबूत रस्सा बन जाता है। उसी तरह समाज विकास के लिए व्यक्तियों का आपसी सहयोग अनिवार्य है, सहयोग वह पारस है जिससे लोहा भी सोना बन जाता है। बड़ी से बड़ी विपत्ति का निवारण आपसी सहयोग से किया जा सकता है, अपने अपने स्थान पर सब लोग अपना अपना काम करते हैं। एक और एक ग्यारह के आपसी सहयोग से प्रत्येक संस्था दिन दूनी रात चौगुनी उन्नति करती है। सहयोग से हर असंभव कार्य मनुष्य संभव बना सकता है। सहयोग वह बूंद है जो सीप गिरकर मोती बन जाती है। चौरसिया समाज के निर्वाचित प्रधान व सभासद को अंगवस्त्र देकर सम्मानित किया गया  इस मौके पर  जिला महामंत्री रामपूजन   चौरसिया लालचंद्र चौरसिया दयाराम एडवोकेट अनिल चौरसिया  मोहन चौरसिया मनोज  चौरसिया सोनू संगम अजीत विनोद गायक अमित नारायण चौरसिया सुजीत प्रदीप ठेकेदार संजय केवल  चौरसिया विनय रामबरन व लगभग 200 की संख्या में चौरसिया समाज के लोग एकत्रित हुए।