11 सितम्बर को राष्ट्रीय लोक अदालत में अधिक से अधिक वादों के निस्तारण का लक्ष्य: जिला जज

 | 
11 सितम्बर को राष्ट्रीय लोक अदालत में अधिक से अधिक वादों के निस्तारण का लक्ष्य: जिला जज

अवधनामा संवाददाता 

सहारनपुर(Saharanpur)। राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण एवं राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशानुसार 11 सितम्बर 2021 को राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन सहारनपुर एवं जनपद की समस्त तहसीलो में रखा गया है।

जनपद न्यायाधीश व अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण अश्विनी कुमार त्रिपाठी ने आज सिविल कोर्ट परिसर स्थित न्यायिक अधिकारी सभाकक्ष में पत्रकारों से वार्ता कर रहे थे। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय लोक अदालत में मोटर दुर्घटना प्रतिकर अधिनियम के वाद, वैवाहिक वाद (तलाक के प्रकरण को छोड़कर), लघु शमनीय वाद, भारतीय उत्तराधिकार अधिनियम के वाद, एन.आई.एक्ट की धारा 138 के बाद दीवानी वाद, विद्युत अधिनियम के वाद,एमवी एक्ट व ई-चालान के वाद, भू-राजस्व के वाद ( केवल उच्च न्यायालय एवं जनपद न्यायालय में लम्बित) आपसी सुलह समझौते के आधार पर निस्तारित किये जायेगें। उक्त वादों से सम्बन्धित वादकारी सम्बन्धित न्यायालय में स्वयं या अपने अधिवक्ता के माध्यम से सम्पर्क कर अपने वाद को राष्ट्रीय लोक अदालत में निस्तारित करवा सकते है। राष्ट्रीय लोक अदालत विवादों के सरल एवं सौहादपूर्ण निपटारे का महत्वपूर्ण माध्यम है। आपसी समझौते से वादों के निस्तारण से सामाजिक सौहार्द कायम रहता है। उन्होने कहा कि जो बाद राष्ट्रीय लोक अदालत में निस्तारित होते है उसमे दोनो पक्षों की जीत होती है, निस्तारित वाद की कोई अपील नही होती, अदा की गयी कोर्ट फीस भी वापिस हो जाती है। इसलिए सभी विद्वान अधिवक्तागण, वादकारीगण एवं समस्त हितधारको से आह्वान करते हुए कहा कि वह राष्ट्रीय लोक अदालत में अधिक से अधिक वाद निस्तारित कराये, ताकि राष्ट्रीय लोक अदालत के आयोजन को सफल बनाया जा सकें। अपर जिला जज व नोडल अधिकारी सुभाष चन्द्रा व सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण हरीकेश पाण्डेय ने बताया कि यदि कोई पक्षकार अपना वाद राष्ट्रीय लोक अदालत 11 सितम्बर 2021 की राष्ट्रीय लोक अदालत में नियत कराना चाहता है तो वह सम्बन्धित न्यायालय में प्रार्थनापत्र प्रस्तुत कर सकता है।