गुर्जर नेता चौ.वीरेन्द्र सिंह सहित समर्थकों को किया नजरबंद

 | 
गुर्जर नेता चौ.वीरेन्द्र सिंह सहित समर्थकों को किया नजरबंद

अवधनामा संवाददाता

सहारनपुर। गुर्जर समाज के सम्राट मिहिर भोज के नाम कॉलेज पहुंचने के प्रकरण में चलाए जा रहे आंदोलन के तहत गुर्जर समाज के नेता चौधरी वीरेंद्र सिंह गुर्जर को साथियों समेत घर में ही नजरबंद कर दिया गया और आज जब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कैराना से अपनी सभा समाप्त कर लौटे उनके बाद ही उन्हें रिहा किया गया।

गुर्जर समाज के महापुरुष सम्राट मिहिर भोज गुर्जर की प्रतिमा अनावरण के समय कुछ लोगों द्वारा उनके नाम पर कालिख पोते जाने के मामले को लेकर गुर्जर समाज में आक्रोश बना हुआ है और गुर्जर समाज इस मुद्दे को लेकर एक लंबे समय से आंदोलन भी कर रहा है। उनकी मांग है कि कालिख पोतने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए सरकार की ओर से माफी मांगी जाए, लेकिन अभी तक भी इस और कोई कार्रवाई ना होने पर चौधरी वीरेंद्र सिंह गुर्जर के नेतृत्व में एक नवंबर से जागरूकता आंदोलन चलाया जा रहा है। इसी कड़ी में चौधरी वीरेंद्र सिंह गुर्जर ने साथियों सहित प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने की घोषणा की थी और ना मिलने पर विरोध करने की चेतावनी भी दी थी, जिसके चलते आज कैराना में होने वाली प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सभा को दृष्टिगत रखते हुए देर रात चौधरी वीरेंद्र सिंह गुर्जर को उनके घर में नजरबंद कर लिया गया और शामली से एसओजी प्रभारी वीरेंद्र कसाना एवं सदर बाजार कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंच गई। आज सुबह उनके आवास पर प्रदीप सिंह वर्मा, चौधरी विक्रम सिंह, संदीप गुज्जर, प्रांकुर चौधरी, संजय कुमार सहित अन्य समर्थकों को रोककर घर में ही हिरासत में लिए रखा और प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सभा समाप्त होने के पश्चात ही उन्हें हिरासत से छोड़ा गया। चौधरी वीरेंद्र सिंह गुर्जर ने कहा कि यह लोकतंत्र की हत्या है।किसी भी व्यक्ति को अपनी बात कहने का अधिकार है। शासन प्रशासन के दबाव में आमजन की आवाज को दबाया जा रहा है इसे किसी रूप में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।