राज्य महिला आयोग की सदस्या ने कलेक्ट्रेट में की जनसुनवाई ,पीड़ित महिलाओं की सुनी समस्याएं

महिलाओं एवं बालिकाओं के उत्थान हेतु केंद्र एवं प्रदेश की सरकार है प्रतिबद्ध- सदस्या

 | 
राज्य महिला आयोग की  सदस्या ने कलेक्ट्रेट में की जनसुनवाई ,पीड़ित महिलाओं की सुनी समस्याएं 

अवधनामा संवाददाता (हिफजुर्रहमान) 


  हमीरपुर :उत्तर प्रदेश, राज्य महिला आयोग की  सदस्या  पूनम कपूर के द्वारा जिले में महिला उत्पीड़न की घटनाओं पर प्रभावी रोकथाम लगाये जाने, पीड़ित महिलाओं को त्वरित न्याय दिलाये जाने एवं प्रदेश के विभिन्न विभागों द्वारा महिला के कल्याणार्थ चलायी जा रही योजनाओं का लाभ दिलाये जाने के साथ ही महिलाओं को उनके विधिक अधिकारो की जानकारी दिलाये जाने हेतु समय-समय पर जिले में महिला जनसुनवाई, विधिक जागरूकता कार्यक्रम एवं अन्य महत्वपूर्ण कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है।

 इसी क्रम में आज राज्य महिला आयोग की सदस्य  मती पूनम कपूर ने कलेक्ट्रेट सभागार में जनसुनवाई कर विभिन्न प्रकार के उत्पीड़न से उत्पीड़ित  महिलाओं/ बालिकाओं की समस्याओं को सुनकर उनके निराकरण हेतु सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित किया। इस मौके पर कुल 08 शिकायतें प्राप्त हुई , सभी शिकायतों/ समस्याओं को राज्य महिला आयोग की  सदस्य ने प्राथमिकता के साथ निस्तारण हेतु संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया । इस दौरान कुछ प्रकरणों में सुलह समझौता भी कराया गया। इस दौरान उन्होंने कहा कि महिला उत्पीड़न से संबंधित शिकायतों को प्राथमिकता के साथ निस्तारित किया जाए इसमें किसी भी तरह की शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि ऐसी  जरूरतमंद /पात्र महिलाएं जिन्हें सरकार द्वारा उनके कल्याण एवं उत्थान हेतु संचालित की जा रही योजनाओं के कार्यक्रमों के बारे में जानकारी नहीं है उनको विभिन्न लाभार्थीपरक  योजनाओं के बारे में आच्छादित करने हेतु तथा उनको योजनाओं के बारे में जानकारी दिए जाने हेतु प्रभावी प्रयास किए जाएं । कहा कि प्रदेश सरकार बेटियों एवं महिलाओं के उत्थान हेतु प्रतिबद्ध है, इसलिए इनके उत्थान के लिए सरकार द्वारा मिशन शक्ति अभियान के तहत तमाम कार्यक्रम चलाकर उन्हें जागरूक करने के साथ ही विभिन्न योजनाओं में लाभान्वित भी किया जा रहा है।

सदस्या द्वारा मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना, उ0प्र0 रानी लक्ष्मीबाई महिला एवं बाल सम्मान को योजना, अत्याचार से प्रभावित अनुसूचित जाति की पीड़िताओं को आर्थिक सहायता, चिकित्सा विभाग की योजनाओं, ऑगनबाडी योजना, अल्पसंख्यक वर्ग हेतु शादी योजना, महिला शिक्षा, ग्रामीण शौचालय की स्थिति  आदि की समीक्षा कर आवश्यकतानुसार सुधारात्मक उपाय करने तथा विभिन्न सरकारी योजनाओं को जरुरतमंदों तक शत-प्रतिशत पहुंचाने के संबंध में संबंधित को निर्देशित किया। 

उन्होने उपस्थित महिलाओं/ बालिकाओं को संबोधित करते हुए कहा गया कि प्रत्येक थाना में महिला हेल्प डेस्क एवं आगन्तुक कक्ष की स्थापना महिला आरक्षीगण की डयूटी लगायी गयी है। जहां पर कोई भी महिला/बालिका अपनी शिकायत दर्ज करा सकती है। जिनकी शिकायत सुनकर तत्काल निस्तारण हेतु सम्बन्धित अधिकारी/कर्मचारीगण को आदेशित किया गया है। प्रत्येक थाना स्तर पर एन्टी रोमियों चेंकिग के दौरान मिलने वाली महिलाओं व बालिकाओं को जागरूक किया जा रहा है यदि उनकी कोई समस्या है, तो उन्हें नोट कर उसका त्वरित निस्तारण कराया जा सकता है।

सदस्या ने 1090 (वूमेन पॉवर लाइन), 181 (महिला हेल्प लाइन), 108 (एम्बुलेंस सेवा), 1076 (मुख्यमंत्री हेल्पलाइल), 112 (पुलिस आपतकालीन सेवा), 1098 (चाइल्ड लाइन), 102 (स्वास्थ्य सेवा) के बारे में विस्तार पर्वक जानकारी दी।

 इस मौके पर ज्वाइंट मजिस्ट्रेट /एसडीएम सदर संजय कुमार मीणा, सीओ सदर ,अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ पीके सिंह,जिला प्रोबेशन अधिकारी, जिला समाज कल्याण अधिकारी सहित अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी कर्मचारी मौजूद रहे।