संचारी रोगों पर प्रभावी नियंत्रण हेतु स्वास्थ्य विभाग ने कसी कमर

 विशेष संवेदीकरण एवं संचारी रोग नियंत्रण अभियान चलाया गया

 | 
 विशेष संवेदीकरण एवं संचारी रोग नियंत्रण अभियान चलाया गया

अवधनामा संवाददाता

अयोध्या(Ayodhya) । शासन एवं उच्च अधिकारियों द्वारा दिये गए निर्देशों के क्रम में डेंगू के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए डेंगू  संवेदनशील मुहल्ले तेलीटोला में जन जागरूकता रैली निकाली गई । तथा नगर क्षेत्र अयोध्या में विशेष अभियान चलाया गया ।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ अजय राजा ने  बताया बरसात के मौसम में सर्दी, खांसी और फ्लू समेत वायरल बुखार का खतरा बढ़ जाता है। साथ ही मच्छर के काटने से डेंगू, चिकनगुनिया, मलेरिया और जीका वायरस जैसी बीमारियां भी दस्तक देती हैं। इन बीमारियों से बचाव के लिए पूरी बाजू के कपड़े पहनें। इससे मच्छरों के काटने से होने वाले संक्रमण का खतरा कम हो जाता है।बुखार, कमजोरी जैसी शरीर में कोई भी समस्या आने पर एकदम नहीं घबराएं। जनपद वासियों से  सभी से अपील करते हुए कहा कि जिले के किसी भी हॉस्पिटल , पीएचसी या सीएचसी से परामर्श लेकर निःशुल्क जांच और इलाज कराएं। जिले में वर्तमान में जिला स्तर पर चिकित्सालय सीएचसी और पीएचसी विभाग पूरी तरह अलर्ट है। 

  रैली में उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी वीबीडी डॉ दुष्यंत सिंह, जिला मलेरिया अधिकारी  एम.ए. खान, फाइलेरिया नियंत्रण अधिकारी डी०के० श्रीवास्तव, एपिडेमियोलॉजिस्ट डॉ अरविंद श्रीवास्तव, फाइलेरिया निरीक्षक एस.पी. मौर्य, दीपक तिवारी मलेरिया निरीक्षक संतोष तिवारी, राजेश कुमार, नितिन नायर, अनवर खान, विवेक चौधरी, अनीता श्रीवास्तव, कीट संग्रहकर्ता आलोक शुक्ला, क्षेत्रीय कार्यकर्ता भागीरथी, शिव जी, विजय तिवारी एवं रामलोट ने भाग लिया। प्रचार-प्रसार के साथ फाइलेरिया कर्मचारियों ने लार्वा निरोधक दवा का छिड़काव भी किया। रैली मे स्थानीय पार्षद प्रतिनिधि किशन मौर्य ने भी पूरे समय साथ रह कर घर घर लोगो को जागरुक किया ।फाइलेरिया नियंत्रण अधिकारी डीके श्रीवास्तव ने बताया कि  बरसात के इस मौसम में घर के बर्तनों, कूलर, पानी की टंकी, फ्रिज की पीछे की घरों के आसपास पड़े टायर, टूटे लोहे व प्लास्टिक के पात्रो में पानी ना इकट्ठा होने दें क्योंकि मच्छर इन्हीं में पनपते हैं सप्ताह में एक बार इन्हें साफ करके अवश्य करें क्योंकि डेंगू का मच्छर दिन में काटता है इसलिए मच्छर के काटने से बचने के लिए जरूरी है कि हम पूरी बांह के कपड़े पहने और मच्छरदानी एवं अन्य उपायों का प्रयोग करें |

जिला मलेरिया अधिकारी एम ए खान ने कहा कि शरीर में बुखार होना कोई भी बीमारी होने का सामान्य लक्षण है यदि किसी को बुखार होता है तो उसे घबराए नहीं चाहिए बल्कि जरूरी है कि उसकी शीघ्र जांच कराई जाए जिससे यह पता लग सके कि बुखार किस वजह से हुआ है जिसके आधार पर ही शीघ्रता के साथ सही उपचार किया जा सके उन्होंने कहा कि किसी भी व्यक्ति को बुखार के लक्षण होने पर किसी प्रकार की देरी ना की जाए , बुखार में देरी से जांच कराना भारी नुक़सान दे सकता है इसलिए जरूरी है कि बुखार आते ही शीघ्र ही अपने निकटतम स्वास्थ्य केंद्र पर जाएं और अपनी निशुल्क जांच एवं सही उपचार पाएं । जिला एपिडेमियोलॉजिस्ट डॉ अरविंद श्रीवास्तव ने बताया कि  7 सितम्बर ,16 सितम्बर तक 10 दिन तक  चलने वाला अभियान में  आशाएं घर घर जाकर नागरिकों को डेंगू, मलेरिया आदि वेक्टर जनित रोगो के लक्षणों एवं बचाव के विषय में लोगों को जागरूक करेंगे साथ ही मच्छरों से बचाव के लिए क्या करें यह जानकारी भी देंगी। अभियान में आशाएं घर घर जाकर बुखार, कोविड-19 के लक्षण, कोविड टीकाकरण, नियमित टीकाकरण आदि का सर्वे करेंगी | आशाएं घर घर जाकर लोगों को डेंगू ,मलेरिया आदि बुखार से बचाव के लिए जानकारी देकर जागरूक करेंगी |