सहभोज से सामाजिक समरसता कायम होती है- महेंद्र यादव

सहभोज का प्रचलन भारतीय संस्कृति में आदि काल से है- अर्चना प्रदीप

 | 
सहभोज से सामाजिक समरसता कायम होती है- महेंद्र यादव
अवधनामा संवाददाता

कुशीनगर। सामाजिक समरसता की आवश्यकता हर जगह है। इसके लिए सहभोज का आयोजन महत्वपूर्ण है। हिदू समाज एकजुट रहेगा, तो राष्ट्रविरोधी शक्तियां भी अपने उद्देश्य में सफल नहीं होंगी। हमारी एकजुटता समाज व देश के विकास को मजबूती प्रदान करेगी। उक्त बातें शनिवार को मकर संक्रांति पर्व पर हाटा विधान सभा क्षेत्र के झांगा बाजार में आयोजित सहभोज व खिचड़ी कार्यक्रम में पहुंचे बतौर मुख्य अतिथि हाटा विधान सभा प्रभारी महेंद्र यादव ने कहा। विशिष्ट अतिथि ब्लॉक प्रमुख मोतीचक अर्चना प्रदीप सिंह ने कहा कि सहभोज का प्रचलन भारतीय संस्कृति में आदि काल से है। वेदों व शास्त्रों में समरसता के अनेक उदाहरण हैं। सामाजिक सौहार्द कायम करने में इसका खासा महत्व है। इस मौके पर प्रधान संघ अध्यक्ष मोतीचक प्रियंका सिंह, भाजपा युवा मोर्चा के जिला मंत्री कुँवर आकाश सिंह, मंडल अध्यक्ष रामक्यास सिंह, बूथ अध्यक्ष विनोद ठठेर, उमेश सिंह प्रधान प्रतिनिधि झांगा, मनोज सिंह, रामवृक्ष यादव, रामु राव, शेषमणि, अशोक सिंह, अरुण पांडेय, जनार्धन, किरण, सुनीता, रंभा, नीलम, निर्जला, इसरावती आदि सैकड़ो की संख्या में महिलाएं व पुरुष मौजूद रहे।