श्री राम चरित मानस महायज्ञ समिति ने की मंत्रणा, बनाई रणनीति

 | 
श्री राम चरित मानस महायज्ञ समिति ने की मंत्रणा, बनाई रणनीति

अवधनामा संवाददाता 

सोनभद्र/ब्यूरो  श्री राम चरित मानस नवाह पाठ महायज्ञ समिति की आवश्यक बैठक वृहस्पतिवार की देर शाम राबर्ट्सगंज नगर स्थित जय प्रभा मंडपम में बुलाई गई। जिसमें पिछले वर्ष के आय-व्यय के बारे में विस्तार से चर्चा हुई। इसके अलावा अबकी बार 24 दिसंबर 2021 से श्री राम चरित मानस नवाह पाठ महायज्ञ कराए जाने पर गहन मंत्रणा कर आवश्यक रणनीति बनाई गई।

श्री राम चरित मानस नवाह पाठ महायज्ञ समिति के महामंत्री सुशील पाठक ने बताया कि महायज्ञ समिति के अध्यक्ष राधेश्याम जालान जी के निर्देश पर यह बैठक बुलाई गई। जिसमें  सबसे पहले पिछले वर्ष 2020-2021 में महायज्ञ में हुए आय-व्यय को पढ़कर सुनाया गया, जिसे मौके पर मौजूद सभीलोगों ने ध्वनि मत से पास कर दिया। उसके बाद आगामी 24 दिसंबर 2021 से होने वाले 27वें श्री राम चरित मानस नवाह पाठ महायज्ञ की विस्तृत रूप-रेखा तैयार की गई। पूर्व वर्षों की तरह ही अबकी बार भी 111 भूदेव महायज्ञ में शामिल रहेंगे। ध्वनि विस्तारक यंत्र समूचे राबर्ट्सगंज शहर में लगाए जाएंगे, ताकि मानस की चौपाइयों से समूचा शहर गुंजायमान रहे। उन्होंने यह भी बताया कि भुदेवों का पंजीकरण एक दिसंबर 2021 से यज्ञ समिति के सक्रिय सदस्य शिशु त्रिपाठी जी के आवास पर किया जाएगा। समिति के लोगों ने अबकी बार वृहद रूप से महायज्ञ को कराने के लिए अपने-अपने विचार व्यक्त किए हैं। बैठक की अध्यक्षता महायज्ञ समिति के संरक्षक अजय शेखर जी एवं सफल संचालन महायज्ञ समिति के महामंत्री सुशील पाठक ने किया। उक्त बैठक में संरक्षक रतन लाल गर्ग, इंद्रदेव सिंह, ओमप्रकाश त्रिपाठी, डॉक्टर कुसुमाकर श्रीवास्तव, डॉक्टर जेएस चतुर्वेदी, हरीश अग्रवाल,मिठाई लाल सोनी, श्यामसुंदर चौबे, सुधाकर पांडेय, राजेश्वर नाथ शुक्ला, सदस्य अजित सिंह भंडारी, कमल नरायन सिंह, अजय कुमार शुक्ला, मन्नू पांडेय, विमलेश सिंह, महेश द्विवेदी,सुधाकर दुबे, रविंद्र पाठक, चंदन चौबे, राजेश जायसवाल, संगम गुप्ता, संजय अग्रवाल, चंद्रभान अग्रवाल, परमेश जैन, राजेश बंसल, दिनेश बंसल, रामविलास सोनी, राजेंद्र केशरी, ठाकुर अग्रहरि,राजू सोनी,  अशोक गुप्ता, आशीष अग्रवाल, राम प्रसाद यादव, सुंदर केशरी, विनय जायसवाल, दीपक केसरवानी, डॉक्टर चंद्रभूषण पांडेय, मुरली अग्रवाल, रामनरायन सर्राफ आदि मौजूद रहे।