स्वयं सहायता समूह की महिलाओं का प्रशिक्षण कार्यक्रम आरंभ

 | 
स्वयं सहायता समूह की महिलाओं का प्रशिक्षण कार्यक्रम आरंभ

अवधनामा संवाददाता

बाराबंकी। महिलाओं को हुनरमंद बनाने के लिए सूत्र (सोशल अपलिफ्टमेंट थ्रू रिसर्च एंड एक्शन) संस्था द्वारा नाबार्ड के सहयोग से सराहनीय पहल की जा रही। संस्था द्वारा स्वयं सहायता समूह की 73 महिलाओं के लिए 15 दिवसीय सोलर एलइडी उत्पाद प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन ग्राम बरेला बनीकोडर में किया गया।

कार्यक्रम का शुभारंभ डॉ. डी.एस चौहान, चीफ जनरल मैनेजर (सी.जी.एम ) नाबार्ड ने मुख्य अतिथि के रूप में किया। डॉ. चौहान ने महिलाओं से कहा कि सूत्र संस्था द्वारा नाबार्ड के सहयोग से चलाए जा रहे इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के माध्यम से महिलाओं को सोलर एलइडी उत्पाद बनाने का प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा और उन्हें मार्केटिंग के लिए भी जानकारी दी जाएगी। महिलाओं को स्वावलंबी बनाने और उनकी पारिवारिक आय में वृद्धि करने में यह प्रशिक्षण कार्यक्रम उपयोगी साबित होगा। उन्होंने नाबार्ड द्वारा महिला सशक्तिकरण हेतु चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं के विषय में भी विस्तार से जानकारी दी।

सूत्र संस्था की निदेशक कस्तूरी सिंह ने संस्था  द्वारा महिलाओं के सशक्तिकरण हेतु किए जा रहे कार्यो की रिपोर्ट प्रस्तुत की। उन्होंने बताया कि इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में महिलाओं को एलईडी लाइट, सोलर से संचालित वस्तुएं, बांस से सजावटी सामान , एलईडी झालर आदि बनाना सिखाया जाएगा।

रवि यादव, जिला विकास प्रबंधक नाबार्ड ने महिलाओं को पूरी निष्ठा एवं लगन से कार्यक्रम को पूर्ण करने के लिए प्रेरित किया। डॉ. कीर्ति विक्रम सिंह शिक्षाविद ने महिलाओं को जीवन कौशल की तकनीकों के विषय में जानकारी दी। चंचल यादव प्रशिक्षक द्वारा प्रशिक्षण कार्यक्रम के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला गया। उन्होंने बताया कि सोलर एलइडी उत्पादों की मांग बाजार में तेजी से बढ़ रही है, ऐसे में यह प्रशिक्षण कार्यक्रम महिलाओं के लिए काफी उपयोगी साबित होगा और उनकी आय में वृद्धि होगी।

कार्यक्रम का प्रभाव पूर्ण संचालन अंकित मौर्य द्वारा किया गया। इस अवसर पर श्री कृष्ण समेत अन्य लोग उपस्थित रहे।