समाजवादी व्यापार सभा ने दी मृतक व्यापारियों को श्रद्धांजलि

 | 
समाजवादी व्यापार सभा ने दी मृतक व्यापारियों को श्रद्धांजलि
अवधनामा संवाददाता

सहारनपुर। भाजपा सरकार में आत्महत्या करने वाले व्यापारियों को आज सपा व्यापार सभा ने जुडे व्यापारियों ने मोमबत्तियां जला भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित कर मौजूदा प्रदेश सरकार को पूरी तरह व्यापारी विरोधी करार दिया।

आज समाजवादी व्यापार सभा के प्रदेश अध्यक्ष व नगर विधायक संजय गर्ग के नेतृत्व में व्यापारियों ने पंसारी बाजार में श्रद्धांजलि सभा कर भाजपा सरकार में आत्महत्या में जान गंवाने वाले व्यापारियों को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। विधायक संजय गर्ग ने बताया कि आज प्रदेश स्तर पर भाजपा के शासन में 2020 में आत्महत्या करने वाले 11,716 व्यापारियों को जिलों के बाज़ारों में कैंडिल जलाकर श्रद्धाजंलि अर्पित की। प्रदेश अध्यक्ष संजय गर्ग ने बताया की एनसीआरबी के हाल ही में(नवम्बर 2021) जारी आंकड़ों के अनुसार 2020 में 11,716 व्यापारियों ने आत्महत्या की।वहीं 10,677 किसानों ने वर्ष 2020 में आत्महत्या की।भाजपा व्यापारी व किसान विरोधी है।व्यापरियों की आत्महत्या का मुख्य कारण लॉकडाउन,लोन डिफ़ॉल्ट व आर्थिक तंगी बताया गया है।2020 में पहले की तुलना में व्यापारियों में आत्महत्या की प्रवृत्ति में लगभग 50 प्रतिशत तक की बढ़ोत्तरी देखी गई है।यह भाजपा की व्यापारी विरोधी नीतियों का ही नतीजा है कि आज हताश होकर व्यापारी आत्महत्या कर रहे हैं।देश में 2020 में व्यापारियों ने सबसे ज़्यादा आत्महत्या की है।यह आत्महत्या का प्रतिशत पहली बार देखने को मिला है जो कि बेहद दुखद है।संजय गर्ग ने कहा कि भाजपा की तानाशाही नोटबन्दी,विसंगतिपूर्ण जीएसटी,इंस्पेक्टर राज बगैर तैयारी के लॉकडाउन,महँगाई,उत्पीड़न,बढ़ते अपराध की वजह से व्यापारी ऐसे कदम उठाने को मजबूर हुए। इनकी मौत की ज़िम्मेदार भाजपा की ही सरकार है।श्रद्धांजलि देने वालों में जिला अध्यक्ष हरपाल वर्मा, जिला प्रभारी नत्थू राम यादव, महामंत्री अनुज गुप्ता, पूर्व महानगर अध्यक्ष फैसल सलमानी, पवन गर्ग, अमर चौधरी, मुकेश माणक, गुलशन कपूर, प्रणव शर्मा, अखिल प्रसाद, राहुल शर्मा, अनुज यादव, सतराम खुराना, अनुज बंसल, हाजी शमशेर, अब्दुल हमीद, पवन गर्ग, संजीव कुमार बंटी, राकेश कुमार, इंद्रसेन, राकेश वर्मा, आरव वर्मा, नवीन सिंगल, रवि कुमार, जमील अंसारी, विशाल चंदेल, विनोद वर्मा व विभोर जिंदल आदि व्यापारी मौजूद रहे।