रोहिला समाज ने रक्षा बंधन को शौर्य दिवस के रूप में मनाया

अवधनामा संवाददाता सहारनपुर (saharanpur)। अखिल भारतीय रोहिला क्षेत्रीय विकास परिषद ने महाराजा रणवीर सिंह रोहिला की स्मृति में रक्षा बंधन पर्व को शौर्य दिवस के रूप में मनाया। आज देहरादून रोड स्थित महाराजा रणवीर सिंह रोहिला चौक पर संगठन द्वारा रक्षा बंधन पर्व को शौर्य दिवस के रूप में मनाया गया और महाराजा रणवीर सिंह
 | 

रोहिला समाज ने रक्षा बंधन को शौर्य दिवस के रूप में मनाया

अवधनामा संवाददाता

सहारनपुर (saharanpur)। अखिल भारतीय रोहिला क्षेत्रीय विकास परिषद ने महाराजा रणवीर सिंह रोहिला की स्मृति में रक्षा बंधन पर्व को शौर्य दिवस के रूप में मनाया।

आज देहरादून रोड स्थित महाराजा रणवीर सिंह रोहिला चौक पर संगठन द्वारा रक्षा बंधन पर्व को शौर्य दिवस के रूप में मनाया गया और महाराजा रणवीर सिंह रोहिला के चित्र पर पुष्प अर्पित किये गये। इस अवसर पर राष्ट्रीय महामंत्री कुलदीप सिंह रोहिला ने बताया कि रोहिला खण्ड के राजा रणवीर सिंह रोहिला के कार्यकाल में दिल्ली के सुल्तान उनसे भयभीत रहते थे। उन्होंने 30 वर्ष तक आक्रांताओं की घुसपैठ रोहिला खण्ड में नहीं होने दी। 27 अप्रैल 1254 में दिल्ली सुल्तान नसीरूद्दीन महमूद की 30 हजारी सेना को धूल चटायी, लेकिन रक्षा बंधन के दिन बहनों से राजा रक्षा सूत्र बंधवाते राजपूतों पर धोखे से महमूद की सेना ने गद्दरों के हाथों किले का दरवाजा खोल देने पर आक्रमण किया, जिसमें राजा रणवीर सिंह रोहिला युद्ध करते हुए बलिदान हो गये और रानी तारा देवी ने जौहर किया तथा स्वाधीनता व स्वाभिमान की रक्षा में इस शौर्य सम्राट के बलिदान के कारण समस्त राजपूत समाज रक्षा बंधन पर्व को शौर्य दिवस के रूप में मनाता है। इस अवसर पर श्रीमती रेखा रोहिला, नरेश राणा, राकेश रोहिला, मनीष रोहिला, विनोद कुमार रोहिला, विजेन्द्र सिंह रोहिला, प्रेमचंद रोहिला, नंद किशोर रोहिला, अजय कुमार रोहिला आदि मौजूद रहे।