मण्डलायुक्त की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई मतदाता पुनरीक्षण कार्यक्रम की समीक्षा बैठक

 | 
मण्डलायुक्त की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई मतदाता पुनरीक्षण कार्यक्रम की समीक्षा बैठक

अवधनामा संवाददाता
 

बहराइच। भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार अर्हता तिथि 01 जनवरी 2022 के आधार पर संचालित किये गये विशेष मतदाता पुनरीक्षण कार्यक्रम की समीक्षा के लिए रोल प्रेक्षक/आयुक्त, देवीपाटन मण्डल, गोण्डा एस.वी.एस. रंगाराव ने कलेक्ट्रेट सभागार में जिले के अधिकारियों तथा राजनैतिक दलों के पदाधिकारियों के साथ बैठक कर पुनरीक्षण अभियान के दौरान प्राप्त हुए प्रपत्रों, प्रपत्रों के डिजिटाईज़ेशन कार्य, मतदाता शिक्षा एवं निर्वाचक सहभागिता (स्वीप) अन्तर्गत जागरूकता गतिविधियों, मतदान केन्द्रों पर न्यूनतम मूलभूत सुविधाओं की उपलब्धता इत्यादि की समीक्षा करते हुए आवश्यक दिशा निर्देश दिये।
बैठक के दौरान रोल प्रेक्षक/आयुक्त श्री रंगाराव ने निर्देश दिया कि आसन्न विधानसभा सामान्य निर्वाचन-2022 में शत-प्रतिशत मतदाताओं की सहभागिता सुनिश्चित करने के उद्देश्य से मतदाता शिक्षा एवं निर्वाचक सहभागिता (स्वीप) अन्तर्गत व्यापक स्तर पर जनजागरूकता से सम्बन्धित गतिविधियॉ संचालित की जायें। आयुक्त द्वारा निर्देश दिया गया कि स्वीप अन्तर्गत संचालित कार्यक्रमों में शिक्षण संस्थाओं, छात्र’छात्राओं, एनएसएस, स्काउट गाइड्स तथा एनसीसी कैडेट्स के साथ-साथ स्वयंसेवी संगठनों का भी सहयोग प्राप्त किया जाय।
आयुक्त श्री रंगाराव ने यह भी निर्देश दिया कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार ईवीएम (इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन) तथा वीवी पैट हेतु व्यापक स्तर पर जन-जागरूकता कार्यक्रम इस प्रकार से निर्धारित किये जायें कि मतदान केन्द्रों के अतिरिक्त मुख्य स्थलों यथा नगर पालिका परिषद एवं नगर पंचायत, जिला पंचायत एवं क्षेत्र पंचायत, ग्राम पंचायत, बाजार, मॉल, हाट व चौराहे इत्यादि निर्वाचन कार्यक्रम की घोषणा के पूर्व ही प्रत्येक विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के प्रत्येक गाँव एवं मजरा तथा पोलिंग स्टेशन लोकेशन (मतदान केन्द्र) आच्छादित हो जायें।
आयुक्त ने यह भी निर्देश दिया कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार समस्त मतदान केन्द्रों पर न्यूनतम मूलभूत सुविधाओं का सत्यापन करा लिया जाय। यदि कहीं पर कोई कमी पायी जाती है तो सम्बन्धित विभाग तथा ग्राम प्रधानों से समन्वय कर उन कमियों को समय रहते दूर कर लिया जाय। शरद ऋतु को दृष्टिगत रखते हुए आयुक्त ने सभी मतदान केन्द्रों पर प्रकाश के माकूल बन्दोबस्त सुनिश्चित कराये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि जिले के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में स्थित मतदान केन्द्रों पर विशेष ध्यान दिया जाये और यह सुनिश्चित किया जाय कि वहॉ पर भी सभी न्यूनतम मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध रहें।
बैठक के दौरान पुनरीक्षण अभियान के दौरान प्राप्त हुए प्रपत्रों, उनके डिजीटाईज़ेशन, ई.पी. रेशियों, जेण्डर रेशियों इत्यादि की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र ने बताया कि पुनरीक्षण अभियान के दौरान जनपद के जेण्डर रेशियों में अपेक्षित सुधार हुआ है। डॉ. चन्द्र ने बताया कि पुनरीक्षण से पूर्व जनपद का जेण्डर रेशियों जहॉ 886 था वहीं पुनरीक्षण अभियान के बाद जेण्डर रेशियों बढ़ कर 892 हो गया है। जो कि आयोग द्वारा निर्धारित मानक 891 से 01 प्रतिशत अधिक है। डॉ. चन्द्र ने यह भी बताया कि वर्तमान में जनपद का ई.पी. रेशियों 57.04 प्रतिशत हो गया है। पुनरीक्षण अभियान से पूर्व जिले का ई.पी. रेशियों 56.00 प्रतिशत था। आयुक्त ने निर्देश दिया कि किसी भी इंडेक्स में आयोग द्वारा निर्धारित मानक से कम औसत नहीं होनी चाहिए।
इस अवसर पर जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र, अपर जिलाधिकारी मनोज, नगर मजिस्ट्रेट ज्योति राय, उप जिलाधिकारी सदर सौरभ गंगवार आईएएस, महसी के रामदास, पयागपुर के दिनेश कुमार, कैसरगंज के महेश कुमार कैथल, उप जिलाधिकारी न्यायिक बहराइच सदर सुभाष सिंह धामी, डिप्टी कलेक्टर प्रशिक्षु पी.सी.एस. अमन देओल, अधि.अभि. जल निगम सौरभ सुमन सहित अन्य अधिकारी, भारतीय जनता पार्टी से श्रृवण शुक्ला व रण विजय सिंह, सी.पी.आई. से सिद्धनाथ श्रीवास्तव, समाजवादी पार्टी से विकास दीप वर्मा, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी से सै. महमूद अली कादरी, आर.एल.डी. से अज़ीमुल्ला, बहुजन समाज पार्टी से छोटे लाल गौतम सहित अन्य सम्बन्धित लोग मौजूद रहे।