बाल दिवस पर चाचा नेहरू को किया याद

 | 
बाल दिवस पर चाचा नेहरू को किया याद
अवधनामा संवाददाता
 

सहारनपुर। विश्व बाल श्रम निषेध दिवस पर उम्मीद सामाजिक संस्था द्वारा गोष्ठी का आयोजन कर बाल श्रम उन्मूलन को समाप्त कर बच्चों को शिक्षा से जोड़े जाने का आह्वान किया गया।

रेलवे रोड़ स्थित संस्था कार्यालय पर आयोजित गोष्ठी में उ०प्र०राज्य कर्मचारी महासंघ के ज़िला मंत्री दानिश सिद्दीकी ने कहा कि स्वतंत्रता के बाद देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने भारत को विश्व में पहचान दिलाई। देश के लिए पंचवर्षीय योजना लाकर जो नियोजित विकास को गति दी, उसी आधार पर केंद्र सरकारें आज कार्य करती आ रही हैं। बच्चों के बाल अधिकार की जानकारी दी। उन्होंने ने कहा कि 18 साल से कम उम्र के बच्चों को मजदूरी नहीं करनी चाहिए बल्कि शिक्षा ग्रहण करना चाहिए जो कि उनका अधिकार है। इसके अलावा उन्होंने बच्चों से पूछा कि वे भविष्य में क्या बनना चाहते हैं और बताया अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए उसके योग्य बनना होगा। जिसके लिए पढ़ाई जरूरी है। बच्चों से नशे की प्रवृत्ति से दूर रहने तथा गुड टच, बैड टच के बारे में बताते हुए किसी भी परिचित अपरिचित व्यक्ति के परेशान करने पर अपने माता-पिता को बताने को कहा। केंद्र व राज्य सरकार बच्चों व महिलाओं के उत्थान के लिए अनेक कार्य योजनाएं संचालित है सभी लोग योजनाओं का लाभ लें। कई कमजोर व असहाय वर्ग के बच्चों  के लिए अनेक योजनाएं संचालित है। संस्था अध्यक्ष नेहा अली ने चाचा नेहरू के जीवन पर विचार व्यक्त किया। इस अवसर पर सिदरा अली,महक मालिक,मौ०साहिल नाज़िया प्रवीन, निशा,हुदा अंजुम,अज़रा प्रवीन, शाइस्ता, मौ०फैसल,रय्यान सिद्दीकी आदि ने बाल दिवस पर विचार व्यक्त किये। माहम,हाजरा ने गीत प्रस्तुत किये।