लापरवाह पीडब्लूडी कच्छप गति से बना रहा सड़क

यूपी-एमपी मुख्य मार्ग में नौ माह से चल रहा है कार्य

 | 
लापरवाह पीडब्लूडी कच्छप गति से बना रहा सड़क

अवधनामा संवाददाता

बांदा। पीडब्लूडी विभाग की लापरवाही के चलते कच्छप गति से सड़क का निर्माण हो रहा है, और हादसे भी हो रहे हैं। एक बालू भरा ट्रक पुलिया में धंस जाने के कारण काफी अव्यवस्था हो गई। पुलिस मौके पर पहुंची और जेसीबी मशीन का इस्तेमाल करते हुए ट्रक हटवाया, तब कहीं जाकर आवागमन सुलभ हो सका। करतल कस्बा से लगभग चार किमी की दूरी में ही यूपी, एमपी मुख्य मार्ग में पीडब्ल्यूडी का कार्य लगभग 9 माह से चल रहा है। इसमें चार किलोमीटर में चार पुलिया का निर्माण होना प्रस्तावित था। लेकिन ठेकेदारों की लापरवाही के चलते पुलिया निर्माण तो दूर इनके द्वारा सड़क को ही उखाड़ कर फेंक दिया गया है, जिसमें एक तरफ की सड़क को तो बिल्कुल उखाड़ कर भारी गड्ढा कर दिया गया है। गड्ढे के आगे न तो कोई संकेतात्मक बोर्ड लगाया गया है और न ही ऐसी कोई वैकल्पिक व्यवस्था की गई जिससे आने-जाने वाले लोगो को सड़क में गड्ढा होने की जानकारी मिल सके। इसके कारण रात्र में कभी भी गड्ढे के कारण कोई बड़ी दुर्घटना हो सकती है। एक तरफ की जो टूटी फूटी सड़क है, उसमे भी बड़े-बड़े गड्ढे हैं, जिसके चलते आये दिन दुर्घटना होती रहती हैं। अभी कुछ ही दिनों पहले ही एक दुर्घटना हुई थी, लेकिन जिम्मेदारों के ठेंगे से है, कोई मरे या जिये लेकिन काम कच्छप गति से ही होगा। रात दिन मप्र, की खदानों से उत्तर प्रदेश की सड़कों से निकल रहे बालू के ओवरलोड ट्रक सड़कों को ध्वस्त कर रहे हैं। कस्बा करतल से महज 4 किमी दूर ग्राम महाराजपुर के पास बालू से भरा ओवरलोड ट्रक पुलिया में धंस गया। यह घटना देर रात तकरीबन साढ़े 11 बजे की है। इसकी वजह से देर रात से प्रातः 12 बजे दिन तक आने-जाने वाले वाहनों का आवागमन पूरी तरह बाधित हो गया। इससे मुख्य मार्ग में दोनों तरफ वाहनों का अच्छा खासा जाम लग गया। यात्री अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए भटकते नजर आए। सूचना पर पहुंचे स्थानीय पुलिस चौकी करतल प्रभारी जयचन्द्र सिंह ने जेसीबी की मदद से ट्रक की बालू खाली कराकर बाहर निकलवाया। इससे जाम की समस्या से निजात मिल सकी। अब देखने वाली बात यह है कि तकरीबन 4 किमी की दूरी (यूपी एमपी मुख्य मार्ग में) महाराजपुर के पास की यह घटना जहां पीडब्ल्यूडी के ठेकेदारों की लापरवाही उजागर कर रही है।