बारिश बनी कहर, गईं तीन जानें, फसल हुई चौपट:

 | 
बारिश बनी कहर, गईं तीन जानें, फसल हुई चौपट:
अवधनामा संवाददाता 

बाराबंकी बारिश ने कई तरह से कहर ढाया, जिले की रामसनेहीघाट कोतवाली के बसैगापुर मजरे ढेमा में बारिश के दौरान कच्ची दीवार ढहने से 40 वर्षीय अरविंद और उनके सात वर्षीय पुत्र की मलबे में दबकर मौत हो गई। काफी देर बाद लोगो ने मलबा देखा तो उन्हें पता लगा। नगर व ग्रामीण इलाकों में गली, मुहल्लों, सड़कों और कार्यालयों में पानी भर जाने से आवागमन प्रभावित हो गया। अयोध्या हाईवे पर निबहा सहित कई अन्य स्थानों पर देर रात पेड़ गिरने से आवागमन बाधित रहा। वहीं, रामसनेहीघाट में तहसील के निकट गुरुवार सुबह आम का पेड़ गिर गया, जिसे वनकर्मी हटाने में जुटे हैं।

इसी तरह सतरिख थाना क्षेत्र के ग्राम महमूदपुर टिकरा घाट के निवासी केशन की पत्नी रामकली के घर का छप्पर कच्ची दीवाल पर रखा हुआ था। वह स्वयं सो रही थी, 4:00 बजे भोर दीवार गिरने से वह गंभीर रूप से जख्मी हो गई। जिला अस्पताल पहुंचने  पर डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

उधर बारिश संग चली तेज हवाओं ने किसान को माथा पकड़ बैठने को मजबूर कर दिया। खेतों में खड़ी धान की फसल औंधे मुंह गिर गई। खेतों का नजारा देख अन्नदाता सन्न राह गया।