टीकाकरण में लोगों की भागीदारी अब एएनएम की जिम्मेदारी

जनपद की 278 एएनएम को दिया गया टारगेट

 | 
टीकाकरण में लोगों की भागीदारी अब एएनएम की जिम्मेदारी

अवधनामा संवाददाता

बांदा। कोरोना संक्रमण के खिलाफ चल रही जंग में टीकाकरण बेहद अहम है। 18 वर्ष आयु पार चुके लोगों को कोरोना की दोनों डोज लगवाने के लिए स्वास्थ्य विभाग जुटा हुआ है। अब इसमें और तेजी लाने के लिए जनपद की एएनएम को भी लक्ष्य दिया गया है। जनपद की अर्बन व ग्रामीण क्षेत्रों में तैनात 278 एएनएम को रोजाना दिया जा रहा है।

कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए वैक्सीनेशन कारगर हथियार है। जनपद में 16 जनवरी से टीकाकरण चल रहा है। स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंट लाइन वर्कर्स, बुजुर्गों, गंभीर बीमारी से ग्रस्त मरीजों के अब 18 वर्ष आयु पार कर चुके लोगों को कोरोना की डोज लगाई जा रही है। जनपद में 1291454 लोगों को प्रतिरक्षत करने का लक्ष्य रखा गया है। अब तक 773773 ने पहली और 210931 ने दूसरी डोज लगवाई है। वैक्सीनेशन पूरा कराने के लिए अब एएनएम को भी जिम्मेदारी सौंपी गई है। यह अपने सेंटर व आंगनबाड़ी में बैठकर टीकाकरण कार्य करेंगी। जनपद में 278 एएनएम तैनात हैं। इसमें 17 शहरी व 261 ग्रामीण क्षेत्रों में कार्यरत हैं।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. एमसी पाल ने बताया कि देश में कोरोना रोधी वैक्सीन के सौ करोड़ लोगों को टीके लग चुके हैं। जिसमें सबसे अधिक 12 करोड़ से ज्यादा टीके यूपी में ही लगे हैं। टीकाकरण का आंकड़ा बढ़ाने में जिले का भी योगदान रहा है। संक्रमण की संभावित तीसरी लहर के मद्देनजर शीघ्र ही निर्धारित लक्ष्य को पूरा करने का प्रयास किया जा रहा है। इसके लिए एएनएम को लक्ष्य दिया गया है।