पेंशन के लम्बित प्रकरणों का निस्तारण तत्परता से किया जाय- मण्डलायुक्त

पेंशन अदालत में आये 15 नये मामले, कई प्रकरण हुए निस्तारित

 | 
पेंशन के लम्बित प्रकरणों का निस्तारण तत्परता से किया जाय- मण्डलायुक्त

अवधनामा संवाददाता

आज़मगढ़। मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त ने कहा है कि मण्डल के जनपदों में जिन पेंशनरों का प्रकरण लम्बित है, उसपर विशेष ध्यान देकर तत्परता से निस्तारित किया जाय, ताकि पेंशनर्स आर्थिक समस्या से बच सकें। उन्होंने कहा कि सेवानिवृत्त अधिकारी, कर्मचारी के जीवन यापन के लिए पेंशन अत्यनत महत्वपूर्ण है, इसलिए सभी अधिकारियों को इसके प्रति पूरी तरह से संवेदनशील रहने की जरूरत है। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने बुधवार को देर सायं अपने कार्यालय के सभागार में आयोजित पेंशन अदालत की अध्यक्षता करते हुए यह भी कहा कि पूर्व में आयोजित पेंशन अदालत में प्रस्तुत जिन मामलों में अभी तक आख्या प्राप्त नहीं हुई है उसमें सम्बन्धित अधिकारी से तत्काल आख्या मंगाकर प्राथमिकता के आधार पर निस्तारित किया जाय। उन्होंने पंचायती राज विभाग के स्तर पर कई प्रकरण लम्बित पाये जाने पर अपर निदेशक, कोषागार एवं पेंशन को निर्देश दिया कि मण्डल के तीनों जनपद के जिला पंचायत राज अधिकारी के स्तर पर लम्बित पेंशन के प्रकरणों का विवरण प्राप्त कर प्रस्तुत करें।

 मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त के समक्ष पेंशन अदालत में विभिन्न विभागों से सम्बन्धित 15 मामले प्रस्तुत किये गये, जिसमें आज़मगढ़ के 8, मऊ के 5 एवं बलिया के 2 प्रकरण सम्मिलित थे। उन्होंने प्रस्तुत प्रकरणों मेें सम्बन्धित अधिकारी से आख्या प्राप्त कर मौके पर निस्तारण कराया। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने पेंशन अदालत में अन्य लम्बित पेंशन प्रकरणों पर विस्तार से चर्चा करते हुए आवश्यक दिशा निर्देश दिया।

 इस अवसर पर मुख्य राजस्व अधिकारी मऊ हंसराज यादव, अपर निदेशक, कोषागार एवं पेंशन विजय कुमार सिंह, मुख्य कोषाधिकारी आज़मगढ़ विजय शंकर, वरिष्ठ कोषाधिकारी मऊ मनीष कुमार कुशवाहा, सहायक लेखाधिकारी भूपेन्द्र वीर सिंह सहित अन्य सम्बन्धित विभागों के अधिकारी एवं पेशनर्स उपस्थित थे।