जनप्रतिनिधियों के शिकायतों का निस्तारण प्राथमिकता के आधार पर करे अधिकारी- सावित्री

जिला पंचायत की बैठक सम्पन्न, नए विकास कार्यों पर की गयी चर्चा
 | 
जनप्रतिनिधियों के शिकायतों का निस्तारण प्राथमिकता के आधार पर करे अधिकारी- सावित्री

अवधनामा संवाददाता

कुशीनगर। जिला पंचायत की बैठक शुक्रवार को जिला पंचायत अध्यक्ष सावित्री जायसवाल की अध्यक्षता में संपंन्न हुई। बैठक पिछले कार्यों की समीक्षा की गई तथा नए कार्यों पर प्रस्ताव अनुमोदित किया गया। बैठक में सांसद प्रतिनिधि राधेश्याम पाण्डेय, रामकोला विधायक रामानंद बौद्ध, सदर विधायक प्रतिनिधि श्री राम, एवं अन्य जन प्रतिनिधियों की उपस्थिति में सम्पन्न हुई। जनप्रतिनिधियों द्वारा जन सुविधाओं से जुडे अनेक सुझाव व समस्याओं को भी रखा गया, जिसके समाधान के निर्देश अधिकारियों को दी गयी।
जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती सावित्री जायसवाल ने कहा कि जनप्रतिनिधियों द्वारा विभिन्न विभागो से जुडी जो शिकायतें व समस्याएं रखा गया है, उसे अधिकारी गंभीरता से लेते हुए समय सीमा के अन्दर उसका समाधान करेगें तथा नियमित रुप से तीन माह में इस समिति की बैठक आयोजित की जाए। उन्होने कहा कि यह विकास कार्यो को लेकर अत्यन्त ही महत्वपूर्ण बैठक होती है, विकास कार्यो के लिए सकारात्मक दृष्टिकोण सामने आते है तथा आने वाली समस्याओं का समाधान कैसे हो, यह सभी की मंशा होनी चाहिए। जनपद का विकास कैसे हो, उसमें सभी को अपनी भागीदारी निभानी चाहिए। अधिकारी व जन प्रतिनिधियों के समन्वय पूर्ण कार्य से ही जनपद का विकास होगा।
विधायक रामकोला ने कहा कि इस बैठक का उद्देश्य है कि अधिकारी व जनप्रतिनिधि एक जगह बैठ कर संचालित योजनाओं की समीक्षा करें। जहां कोई कमियां आये, उसका निराकरण करायें। विभागवार योजनाओं की समीक्षा दौरान स्वास्थ्य विभाग के कार्यों , नए पीएचसी केंद्रों पर चिकित्सकों की तैनाती, एएनएम सेंटरों की स्थिति/ सूची सहित सदस्यगणों द्वारा अपने-अपने क्षेत्रों की समस्याओं से अवगत कराया गया। अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी/जिला प्रतिरक्षण अधिकारी द्वारा सदस्यों की समस्याओं के समाधान हेतु शीघ्र प्रभावी कार्यवाही हेतु भरोसा दिलाया गया, साथ ही वैक्सीन की दूसरी डोज की संख्या कम होने पर मा0 जन प्रतिनिधि गणों द्वारा आम जन को प्रेरित किये जाने की अपेक्षा की गई।
            पिछली बैठक की कार्यवाहियो की पुष्टि करते हुए बैठक की कार्यवाही आरम्भ की गई, जिसके अंतर्गत गड्ढा युक्त मार्गों को गड्ढा मुक्त करने के सम्बंध में अपर मुख्य अधिकारी द्वारा जिला पंचायत के सड़कों की सूची समस्त जन प्रतिनिधियों को उपलब्ध कराने के निर्देश दिए साथ ही उन्होंने सड़क मरम्मत कराने सम्बन्धी प्रस्ताव उपलब्ध कराने की भी अपेक्षा सभी जन प्रतिनिधि गणों से की। बैठक दौरान टाइड/अनटाइड, ग्राम पंचायतों में एलईडी लाइट, हॉटमिक्स पद्धति से नई सड़कों के निर्माण, बाहर से आने वाले अधिकारियों/कर्मचारियों को ठहरने हेतु भवन निर्माण, आदि के सम्बंध में प्रस्ताव पर चर्चा करते हुए अनुमोदित किया गया। आज की बैठक में प्रमुख रूप से पीएचसी/सीएचसी में इलाज आदि से जुड़े समस्याओं को रखा गया। इसी प्रकार अन्य प्रतिनिधियों द्वारा भी जन सुविधाओं से जुड़े अन्य समस्याओं को रखते हुए उसका समाधान किए जाने के अपेक्षा की गई।
बैठक में इन बिन्दुओ पर रहा फोकस
बैठक में मनरेगा, एन आर एल एम, कौशल विकास योजना, प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना, राष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम, पेंशनपरक योजनाओं, प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण एवं शहरी, स्वच्छ भारत मिशन, पेयजल कार्यक्रम, निर्माणाधीन ग्रामीण सड़क योजना, ग्रामीण पेयजल योजनाएं, कृषि, फसल बीमा योजना, आपूर्ति, विद्युत आदि विभागों की गहन समीक्षा की गई। विद्युत विभाग के अधीक्षण अभियंता को प्राविधानो व सभी मानकों का पालन करते हुए विद्युत आपूर्ति, ट्रांसफार्मरों का प्रतिस्थापन आदि कराए जाने के कड़े निर्देश दिए गए। साथ ही उन्हें अपने अधीनस्थों पर नियंत्रण रखें जाने को कहा गया।