बाल विकास परियोजना द्वारा आयोजित पोषण समापन माह का हुआ आयोजन

 | 
बाल विकास परियोजना द्वारा आयोजित पोषण समापन माह का हुआ आयोजन

अवधनामा संवाददाता

तारुन।  ब्लॉक सभागार में गुरुवार को बाल विकास परियोजना द्वारा आयोजित पोषण समापन माह का आयोजन किया गया। इस दौरान बाल विकास परियोजना अधिकारी सुनीता वर्मा ने कहा कि बच्चे देश के भविष्य है। बच्चो को कुपोषण से बचाने के लिए गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान पोषक आहार ग्रहण करना बहुत जरूरी होता है। 

 उन्होंने कहा कि स्वस्थ्य मां से स्वस्थ्य बच्चे जनन होंगे। इसके लिए सरकार द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों को आगनबाड़ी  एवं आशा बहुओ के माध्यम से बाल विकास एवं स्वस्थ्य विभाग द्वारा संचालित किया जा रहा है। खण्ड विकास अधिकारी सर्वेश मोहन श्रीवास्तव ने कहा कि महिलाओं को बच्चो को स्वस्थ्य रखने के लिये बेहतर देखभाल करने की जरुरत है। महिलायें एक साल तक मां का ही दूध पिलाये। और 6 माह तक किसी भी दशा में बाहर के दूध पिलाने से बचें।उन्होंने बताया कि कार्यक्रम के दौरान पांच बच्चों का अन्न प्रसन्न कराया गया। जबकि 5 महिलाओं की गोद भराई की गई।बताया गया कि क्षेत्र में कुल 41 बच्चे कुपोषित मिले हैं। जिनमे से 13 बच्चे अतिकुपोषित पाये गये। अतिकुपोषित बच्चों में एक बच्चे उन्होंने गोद लिया। जिसकी देखभाल वह स्वयं करेंगे। जबकि अन्य अतिकुपोषित बच्चों की देखभाल के लिए ग्राम पंचायत सचिवों एवं सहायक विकास अधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपी गई है। सभी कर्मचारी उस समय बच्चों का  हर महीने देखभाल करते रहेंगे जबतक बच्चा पूरी तरह स्वस्थ्य न हो जाये।उन्होंने कुपोषित एवं अतिकुपोषित बच्चों के परिवारों को बच्चो को पोषण तत्व उपलब्ध कराने के लिए एक एक गाय उनके इच्छानुसार देने का बचन दिया। और कहा कि गाय के चारे के लिए 9 सौ रुपये प्रतिमाह पैसे दिया