सर्द मौसम में न जूता न स्वेटर फिर भी स्कूल जाने पर मजबूर हैं बच्चे

 | 
सर्द मौसम में न जूता न स्वेटर फिर भी स्कूल जाने पर मजबूर हैं बच्चे

अवधनामा संवाददाता

अम्बेडकरनगर  परिषदीय स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को सर्दी से बचाने के लिए प्रदेश सरकार उनके खाते में पैसे भेजती है। ताकि वे जूता और मोजे खरीद सकें। वहीं, 15 दिसंबर बीते जाने के बाद भी स्कूलों के बच्चों के खाते में अभी तक धनराशि नहीं पहुंची है। इस कारण बच्चे सर्दी में बिना जूता, मोजे और स्वेटर पहने स्कूल आने को मजबूर हैं।

60 फीसदी खातों में नहीं पहुंची धनराशि

अंबेडकरनगर जिले में 1500 से ज्यादा परिषदीय विद्यालय है। इसके तहत 28,407 बच्चों के अभिभावक के खाते में डीबीटी के माध्यम से 1100 रुपये भेजे जाने थे। बावजूद इसके, अभी तक सिर्फ 40 फीसदी बच्चों के अभिभावकों के खाते में ही धनराशि पहुंच सकी है। वहीं, 60 फीसदी बच्चों के खाते में पैसा नहीं गया।

आधार कार्ड से लिंक नहीं था अकाउंट

शासन ने पहले चरण में 87596 बच्चों के खाते में डीबीटी के माध्यम से 1100 रुपये ड्रेस आदि खरीदने के लिए पैसा भेजा था। जबकि 46195 छात्रों का खाता उनके आधार कार्ड से लिंक नही था। इसकी वजह से रिजेक्ट हो गया था। अभी तक 140811 छात्रों के खाते में पैसा नहीं गया। इस कारण उन्हें सर्दी में बिना स्वेटर पहने स्कूल आना पड़ रहा है।

बीएसए बोले, जल्द भेजी जाएगी धनराशि

दूसरी ओर जिन अभिभावकों के खाते में ड्रेस खरीदने के 1100 रुपये भेजे गए थे। वह भी ड्रेस खरीदने में लापरवाही कर रहे है।अभिभावक जल्दी ड्रेस खरीदें इसके लिए विभाग की ओर से बार-बार कहा जा रहा है। इस बाबत बेसिक शिक्षा अधिकारी भोलेन्द्र प्रताप सिंह ने बताया कि 87, 596 बच्चों के खाते में पहले चरण में धनराशि भेजी जा चुकी है। कुछ बच्चों का खाता आधार कार्ड से लिंक नही था। इससे दिक्कत आ रही थी। जल्द ही सभी बच्चों के खाते में पैसा भेज दिया जाएगा।