धर्म की पुर्नस्थापना को प्रभु लेते है अवतार: कालेन्द्रानंद

 | 
धर्म की पुर्नस्थापना को प्रभु लेते है अवतार: कालेन्द्रानंद

अवधनामा संवाददाता 

सहारनपुर। श्रीमद् भागवत कथा में प्रवचन करते हुए स्वामी कालेन्द्रानंद महाराज ने कहा कि धर्म की पुर्नस्थापना को प्रभु अवतार लेते है।

स्वामी कालेन्द्रानंद महाराज राधा विहार स्थित महाशक्तिपीठ वैष्णवी महाकाली मंदिर में पितृ पक्ष में चल रही श्रीमद भागवत कथा में प्रवचन कर रहे थे। श्रीरामकृष्ण विवेकानंद संस्थान के तत्वावधान में चल रही कथा में आज मुख्य यजमान संजय मित्तल मनीष धीमान ने परिवार सहित व्यासपीठ एवं श्रीमद् भागवत का पूजन कर व्यास पीठ पर तिलक कर आशीर्वाद प्राप्त किया। पं.ऋषभ शर्मा व योगेश तिवारी ने पूजन सम्पन्न कराया। इस अवसर पर स्वामी कालेन्द्रानंद महाराज ने कहा कि जीव को श्रीहरि शरण प्राप्ति के लिए हर संभव भक्ति का आश्रय लेना चाहिए। हरिनाम ही जीव जगत एवं ब्राहमाण्ड का कल्याण करता है। उन्होंने कहा कि जीव के जीवन में संत मंत्र एवं ग्रन्थ अवश्य होने चाहिए। जिससें उसके जीवन में भक्ति ज्ञान वैराग्य एवं त्याग का भाव बना रहे है और श्री हरि कल्याण कर सकें। इस अवसर पर अरूण स्वामी मेहरचंद जैन मनोज चौहान रमेश शर्मा रविन्द्र चौधरी, संजय मित्तल, गीता बाला कमला आदि मौजूद रहे।