7 वर्षों से एक ही तहसील में जमे कानून गो, अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री से शिकायत

 | 
7 वर्षों से एक ही तहसील में जमे कानून गो, अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री से शिकायत

अवधनामा संवाददाता

बाराबंकी। नवाबगंज तहसील में तैनात कानून गो अपनी कार्यप्रणाली को लेकर चर्चा में आ गए हैं। अव्वल तो वह 7 वर्ष से भी अधिक समय से एक ही तहसील में तैनात हैं जबकि एक तहसील में रहने की सीमा 6 वर्ष ही है। जाहिर है कि इन पर किसी की विशेष कृपा बनी हुई है। इन पर आरोप भी लगा है कि इनके पास आने वाले प्रकरणों को यह अलग ही चश्मे से देखते हैं। फिलहाल इन्हें तहसील से हटाने के साथ ही इनके विरुद्ध जांच के लिए अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री को पत्र भेजा गया है। 
बताते चलें कि नवाबगंज तहसील में तैनात राजस्व निरीक्षक आशुतोष उपाध्याय इस पद पर प्रोन्नति से पहले भूमि अध्याप्ति कार्यालय में तैनात रहे। शासन की व्यवस्था के तहत इनकी प्रोन्नति राजस्व निरीक्षक के पद पर हो गई। तबसे अपनी कार्यशैली के साथ वो तहसील में तैनात हैं। वैसे एक तहसील में 6 वर्ष तक तैनाती मात्र की समय सीमा पार कर आशुतोष6 उपाध्याय अब सेवा काल के 7वें वर्ष में आ गए हैं। नियमतः इनका स्थानांतरण गैर तहसील में हो जाना चाहिए था पर चर्चा है कि किसी विशेष की कृपा इन पर बराबर बनी हुई है। अन्य राजस्वकर्मी हट गए पर इनके अंगद पांव जहाँ के तहां जमे हुये हैं। राजस्व निरीक्षक आशुतोष भूमि से विशेष कर वक़्फ़ सम्पतियों से जुड़े मामलों में विशेष रुचि रखते हैं। हाल फिलहाल एक कब्रिस्तान जमीन प्रकरण में उनका नाम खुलकर सामने आ चुका है। तहसील में ही इसकी काफी चर्चा हो चुकी है। 
राजस्व निरीक्षक आशुतोष उपाध्याय के विरुद्ध अब शिकवा शिकायतें भी शुरू हो गई हैं। शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के पूर्व सदस्य सैयद इमरान रिज़वी ने यूपी के अल्पसंख्यक कल्याण एवं वक्फ मंत्री नंद गोपाल नन्दी को शिकायती पत्र भेजकर राजस्व निरीक्षक आशुतोष को गैर तहसील भेजने व इनके विरुद्ध जांच कराए जाने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि राजस्व निरीक्षक आशुतोष एक ही तहसील में 7 वर्ष से तैनात हैं। जो नियम विरुद्ध है। वहीं वह विभिन्न प्रार्थना पत्रों विशेष कर वक्फ सम्पतियों से जुड़े मामलों व शिकायतों पर शिकायतकर्ता से पूंछे बिना ही एकपक्षीय आख्या लगाते रहे हैं। इससे वक्फ सम्पतियों का नुकसान हो रहा। श्री रिज़वी ने इनके विरुद्ध जांच किये जाने की मांग की है