कृतिदेव यहां शुऑट्स में ग्रामीण कृषि मौसम सेवा द्वारा किसान अमृत महोत्सव आयोजित”

 | 
 कृतिदेव यहां शुऑट्स में ग्रामीण कृषि मौसम सेवा द्वारा किसान अमृत महोत्सव आयोजित”

अवधनामा संवाददाता 


प्रयागराज : ग्रामीण कृषि मौसम सेवा  परयोजना के अन्तर्गत  वानिकी महाविद्यालय परीसर  सैम हिगिनबॉटम यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चर, टेक्नोलॉजी एण्ड सांइसेज, प्रयागराज  परिसर में दिनांक 17 दिसम्बर 2021 ”किसान अमृत महोत्सव˝ क्रार्यक्रम का आयोजन किया गया। उक्त क्रार्यक्रम में मुख्य अतिथि प्रो0 (डा0) एस0 बी0 लाल प्रो0 वाइस चांसलर (प्रशासन) ने कृषक हमारी भारतीय अर्थव्यवस्था में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ये हमारी व्यवस्था में रीड़ की हड्डी की तरह हैं। उन्होने कहा कि आज हमारे देश आजादी की 75वीं जयन्ती के अवसर अमृत मना रहा है जिसके अन्तर्गत आज वानिकी महाविद्यालय में किसान भाईयों के साथअमृत महोत्सव आज मनाया जा रहा है उन्होने आजादी आन्दोलन के समय किसानों कि भूमिका पर संक्षिप्त प्रकाश डालते हुए किसानो को वानिकी महाविद्यालय में ग्रामीण कृषि मौसम सेवा द्वारा उपलब्ध कराये जाने वाली जानकारीयों से अवगत कराया।विशिष्ट अतिथि प्रो0 (डा0) एन्टोनी जोसफ राज, डीन, वानिकी महाविद्यालय, शुऑट्स ने किसानो को सम्बोधित करते हुए कहा कि बदलते हुए मौसम पर आधारित कृषि वानीकि तकनीक द्वारा फसल उत्पादन ग्रामीण लोंगों की अर्थव्यस्था को बेहतर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।
डा0 प्रविन चरन, तकनीकी अधिकारी, ग्रामीण कृषि मौसम सेवा मे प्रतिभागी कृषकों का स्वागत् एवमं परिचय क्रार्यक्रम का संचालन किया।
कार्यशाला तकनीकी सत्र के अर्न्तगत डा0 बी0 मेहरा, एसोसिएट नोडल ऑफिसरए ग्रामीण कृषि मौसम सेवा में एग्रोमेट्रोलॉजी परियोजना के उदेश्य एवमं भूमिका पर प्रकाश डालते हुए कहा कि कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था का मेरुदण्ड है। देश की लगभग 60 प्रतिशत जनसंख्या अपनी आजीविका हेतु प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रुप से कृषि पर निर्भर है। डा0 सोम नाथ सेन कीट एवं पादक रोग वैज्ञानिक नें वृक्षों एवमं फसलों पर होने वाले कीट पादक रोग के समाधान पर प्रकाश डाला।
कार्यशाला में किसान प्रश्नोतरी द्वारा उनके समस्याओं पर विचार विमर्श किया गया एवं एक प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता कराई गई जिसके प्रथम छः किसान विजेताओ को चादर भेट कर सम्मानित किया गया।
इस कार्यक्रम में, डा0 नीलम खरे, डा0 ऑफाक माजिद वानी, डा0 अमित लारकीन, डा0 राम भरोसे,, डा0 सत्येन्द्र नाथ, डा0 समीर दानियल, डा0 अभिषेक जेम्स, डा0 हेमन्त कुमार, डा0 स्वेता गौतम, डा0 एकता पाठक मिश्रा एवं प्रयागराज जिला के किसान उपस्थित थे।