कार्यवाही के लिए दर दर भटक रही अपहरण और दुष्कर्म पीड़िता

पुलिस अपराधियों को गिरफ्तार करनें में नाकाम 

 | 
कार्यवाही के लिए दर दर भटक रही अपहरण और दुष्कर्म पीड़िता

अवधनामा संवाददाता हिफजुर्रहमान
 

मौदहा:हमीरपुर। लगभग दो माह पूर्व रास्ते से अपहरण कर किशोरी के साथ सामूहिक दुष्कर्म और जबरदस्ती मंदिर में विवाह करनें के मामले में पुलिस नें न तो आरोपियों को गिरफ्तार किया और न ही  पीडिता का मेडिकल परीक्षण कराया जिस की चर्चा आम है। जबकि पीड़िता व उस का परिवार  लगातार पुलिस से न्याय की गुहार लगा रहा है। लेकिन पुलिस के जों नहीं रेग रही है।   यह वाकया  लगभग  दो माह पहले कोतवाली क्षेत्र के एक गांव निवासीनी नाबालिग किशोरी रहस्यमय तरीक़े से गायब हो गई थी जिसके चलते किशोरी की मां ने  बांदा जनपद के मटौंध गांव के निवासी दो लोगों को नामजद आरोपी बनाते हुए मुकदमा दर्ज कराया था जिसपर कोतवाली पुलिस ने दोनों आरोपियों के विरुद्ध धारा 363,366 के तहत मामला दर्ज कर औपचारिकता तो पूरी कर दी थी लेकिन आरोपियों की  गिरफ्तारी नहीं थी। जिस से  आरोपियों के हौसले बुलंद हो गए थे।

लेकिन लगभग दो माह बाद किशोरी के परिजनों ने आरोपियों के पास से ही किवोरी को बरामद कर लिया जबकि कोतवाली पुलिस अभी तक पीडिता का  मेडिकल मेडिकल परीक्षण कराने के साथ ही कार्यवाही करने से बच रही है।
कोतवाली क्षेत्र के एक गाँव निवासी एक मां ने सम्पूर्ण समाधान दिवस के मौके अपर पुलिस अधीक्षक को दिए अपने प्रार्थना पत्र में बताया कि उसकी नाबालिग पुत्री को बांदा जनपद के मटौंध निवासी राजेश अनुरागी और दीपक दवा दिलाने की बात कहकर  जसपुरा के पास एक देव स्थान पर ले गया था। पीडिता की मां ने बताया कि उसके बाद उक्त दोनों लोग उसकी पुत्री को कहा ले गए इसकी कोई जानकारी नहीं हो सकी जिसपर पुलिस ने दोनों आरोपियों के विरुद्ध अपहरण का मामला दर्ज किया था।लेकिन दो माह तक पुलिस आरोपियों को तो गिरफ्तार नहीं कर सकी है। बल्कि पीडित परिवार ने उक्त आरोपियों के पास से अपनी पुत्री को बरामद कर लिया है।

पीड़िता ने बताया कि उक्त लोग जब उसे ले जा रहे थे तो उक्त देवस्थान पर न ले जाकर कुरारा ले गये जहां पर  दो महिलाओं के साथ उसे भोजन कराया और उसके बाद वह बेहोश हो गई और जब आंख खुली तो वह महिलाएं गायब थीं और तीन युवक थे और वह दिल्ली पहुंच चुकी थी।
पीड़िता ने बताया कि वहाँ पर सभी ने उसके साथ दुष्कर्म किया और जबरदस्ती मंदिर में उसके साथ विवाह किया और यह सिलसिला लगातार दो माह तक चलता रहा।
पीडिता ने अपनी चोट के निशान दिखाते हुए अपने साथ हुए अत्याचार की पूरी दास्तान सुनाई।सबसे बड़ी बात यह है कि इतने दिनों के बाद भी कोतवाली पुलिस ने पीडिता का मेडिकल न कराते हुए आरोपियों की गिरफ्तारी भी नहीं की है जो चर्चा का विषय बनी हुई है।
वहीं उक्त मामले में कोतवाली प्रभारी के छुट्टी पर होनें पर सब इन्पेक्टर सत्यपाल जो कोतवाली के चार्ज मे है ने बताया कि लड़की को मेडिकल के लिए भेजा  गया है तथा अपराधियों को की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही