केशरीनाथ त्रिपाठी ने “पाण्डुलिपियों में रामकथा का चित्रण“ विषयक दुर्लभ चित्र प्रदर्शनी का किया शुभारंभ

 | 
केशरीनाथ त्रिपाठी ने  “पाण्डुलिपियों में रामकथा का चित्रण“ विषयक दुर्लभ चित्र प्रदर्शनी का किया शुभारंभ

अवधनामा संवाददाता
 

प्रयागराज : पाण्डुलिपि अधिकारी/प्रभारी क्षेत्रीय अभिलेखागार  गुलाम सरवर ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से बताया है कि आजादी का अमृत महोत्सव एवं चैरी-चैरा शताब्दी महोत्सव आयोजन की श्रृंखला में राजकीय पाण्डुलिपि पुस्तकालय (संस्कृति विभाग), प्रयागराज द्वारा राष्ट्रीय रामायण मेला परिसर, श्रृंग्वेरपुर, प्रयागराज में “पाण्डुलिपियों में रामकथा का चित्रण“ विषयक दुर्लभ चित्र प्रदर्शनी का शुभारंभ आज दिनांक 15 नवम्बर, 2021 को अपराह्न 01ः00 बजे मुख्य अतिथि पूर्व राज्यपाल(पश्चिम बंगाल)  केशरीनाथ त्रिपाठी द्वारा किया गया। इस अवसर पर वैकुण्ठ धाम प्रयागराज के पीठाधीश्वर रामानुजाचार्य धराचार्य महाराज की गरिमामय उपस्थिति रही। मेला आयोजन समिति के अध्यक्ष बालकृष्ण पाण्डेय एवं महामंत्री  उमेश द्विवेदी आदि अतिथियों एवं अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने रामकथा के चित्रों की भूरि-भूरि प्रशंसा की तथा पाण्डुलिपियों के संरक्षण हेतु आमजन व विद्धतजनों से इस दिशा में कार्य करने की अपील की तथा धार्मिक और सांस्कृतिक धरोहर के संरक्षण एवं आमजन के जागरूक करने की दिशा में विभाग द्वारा किए जा रहे कार्यो की सराहना की।
प्रदर्शनी में सन् 1794ई0 की हस्तलिखित सचित्र ग्रन्थ रामचरितमानस जिसमें लगभग 500 रंगीन चित्रों का समावेश है को पुनप्र्रकाशित किए जाने की आवश्यकता पर बल दिया। प्रदर्शनी में  इसके अतिरिक्त सीतापताल, रामजनम और अथ विलाप नामक पाण्डुलिपियों के चित्रों को भी प्रदर्शित किया गया है। प्रदर्शित किये गये सभी चित्र रामकथा पर आधारित है।
प्रदर्शनी का संयोजन व निर्देशन  गुलाम सरवर, पाण्डुलिपि अधिकारी/प्रभारी क्षेत्रीय अभिलेखागार द्वारा विभागीय कर्मचारियों के सहयोग से किया गया। इस अवसर पर अतिथियों का स्वागत मेला समिति के पदाधिकारियों एवं संस्कृति विभाग के अधिकारी/कर्मचारियों द्वारा किया गया।