घुस नही दिया तो नही हुयी पट्टे पोखरे की स्वकृति

 | 
घुस नही दिया तो नही हुयी पट्टे पोखरे की स्वकृति

अवधनामा संवाददाता 

मार्टीनगंज,आजमगढ़।  जहाँ एक तरफ केंद्र सरकार व प्रदेश सरकार भ्रस्टाचार मुक्त भारत बनाना चाहती है व कैरेप्सन में लिप्त कर्मचारियों पर कार्यवाही करते हुए सस्पेंड व जेल जुर्माना कर रही है। तो वही दूसरी तरफ आजमगढ़ जनपद के तहसील मार्टीनगंज में बैठे कर्मचारी व अधिकारी भ्रष्टाचार को अपना पेशा बना रखे है। मार्टीनगंज तहसील क्षेत्र के गोसडी गांव निवाशी संगीता व किशोरी कश्यप ने मत्स्य पालन हेतु गाटा संख्या 1014,753,754, में अंकित पोखरे को तहसीलदार के समक्ष 28 अक्टूबर 2021 को बोली लगाकर पट्टा लिया था।जिसकी राजस्व की सम्पूर्ण धन राशि तहसीलदार के पास 11-11-2021 को जमा कर दिया पर उपजिलाधिकारी द्वारा अभी तक आवंटित पोखरे की स्वीकृति नही की गई वहीं पीड़ित संगीता व किशोरी पुत्र बेचन ने कहा कि पोखरे की राजस्व राशि को हमने अपना खेत बेचकर जमा किया है और पोखरे में मछली डाली है और करीब डेढ़ महीने से एस डी एम कार्यालय का चक्कर लगा रहे है जहां अधिकारियों व कर्मचारियों द्वारा घुस के तौर पर हमसे काफी पैसा मंगा जा रहा है जो हमने ही दिया तो जिसके कारण अभी तक उपजिलाधिकारी द्वारा आवंटित पोखरे की स्वीकृति नही प्रदान की गयी अब उच्चधिकारियों से शिकायत करने को मजबूर हैं।