हुजूर मिल्लत साहब का दो दिवसीय सालाना उर्स सकुशल संपन्न

 | 
हुजूर मिल्लत साहब का दो दिवसीय सालाना उर्स सकुशल संपन्न

अवधनामा संवाददाता

मुबारकपुर आजमगढ़। अल जामिया तुल अशरफिया के संस्थापक हाफिज हुजूर मिल्लत साहब के दो दिवसीय सालाना उर्स सकुशल संपन्न हुआ ।   बताते चलें कि अल जमीअतुल अशरफिया यूनिवर्सिटी विश्व विख्यात के नाम से जानी जाती है इनके संस्थापक हाफिजुर मिल्लत साहब की की याद में हर वर्ष उर्स लगाया जाता है इसमें देश ही नहीं विदेश से लोग बड़े अकीदत के साथ आते हैं और उनकी मजार पर चादर पोशी करते हैं लोगों का आस्था है कि अगर भक्तगण सच्चे मन और भाव से इनके यहां आकर अपनी कामना करता है तो उनकी कामना ईश्वर अवश्य पूरी करता है इस देश से लोग देश के कोने कोने से हर वर्ष उर्स पर आकर उनकी मजार पर चादर चाढाकर मन्नतें करते हैं और अपनी मन्नते भी मांगते हैं उत्तर प्रदेश मदरसा बोर्ड के चेयरमैन ने भी चादर पोशी करते हुए कहा कि हमें सौभाग्य मिला है कि हम हुजूर ए हाफिज ए मिल्लत की बारगाह में आए हैं और मैं देश के अमर और शांति के लिए दुआ करता हूं वही अल्पसंख्यक के जिला अध्यक्ष इस्माइल फारूकी ने चादर पोशी की मौलाना अब्दुल अब्दुल रहमान ने कहां की हास्य मिल्लत साहब ने इसके द्वारा  निर्माण कर शिक्षा जगत में एक रोशनी पैदा की है वह एक ऐसी शख्सियत थे जिनके बारे में अनुमान लगाया भी नहीं जा सकता मैं लोगों से अपील करता हूं कि उनके अनुसरण के बताए रास्ते पर लौट चलें और मुल्की अमन और शांति के विकास के लिए मैं प्रार्थना करता हूं उन्होंने कहा कि करोना के मद्देनजर 2 वर्ष तो कुछ खास नहीं मनाया गया लेकिन इस बार भी लोगों से आह्वान किया गया कि बाहर से लोग ना आए और सरकार की गाइड लाइन के अनुसार पालन करें लेकिन क्षेत्रीय आवाम हाफिज ए मिल्लत साहब के दिलो जान से चाहती है और उनके दिलों में है इसलिए क्षेत्र की आवाम में उत्साह भर गया है और लोग बड़े आदर और सम्मान के साथ चादर पोशी कर रहे हैं ।