हमीरपुर में हुआ घरौनी वितरण कार्यक्रम का आयोजन

 | 
हमीरपुर में हुआ घरौनी वितरण कार्यक्रम का आयोजन

    अवधनामा संवाददाता (हिफजुर्रहमान)  

हमीरपुर :स्वामित्व योजना के अन्तर्गत आज सम्पूर्ण प्रदेश के भू-स्वामियों को ग्रामीण आवासीय अभिलेख(घरौनी) का वितरण  कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। इसके अंतर्गत आज वाराणसी में   प्रधानमंत्री  एवं  मुख्यमंत्री    द्वारा अपने हाँथो से लोगों को घरौनी वितरित किया। इस कार्यक्रम का सजीव प्रसारण कलेक्ट्रेट सभागार में देखा गया।  इस अवसर पर  प्रधानमंत्री व  मुख्यमंत्री जी के उद्बोधन को भी सुना गया।

  इसी क्रम में जनपद हमीरपुर में  कलेक्ट्रेट सभागार में माननीय विधायक सदर  युवराज सिंह व जिलाधिकारी डॉ चंद्र भूषण द्वारा अपने कर कमलों से 20 लोगों को घरौनी वितरित की । ज्ञात हो कि यह कार्यक्रम जनपद की सभी तहसीलों में आयोजित किया जा रहा है जिसके अंतर्गत आज 191 ग्रामों के 77309 लोगों को घरौनी वितरित की जा रही है। इसके पूर्व में भी जनपद के 202 ग्रामो में 35982 लोगों को घरौनी वितरित की जा चुकी है।

 इस दौरान  विधायक ने कहा कि स्वामित्व योजना  प्रधान मंत्री जी की दूरदर्शिता संम्वेदनशीलता और हर एक गरीब के लिए उनके मन में जो भाव है उस भाव को मंन्जूरी प्रदान करने के उद्देश्य से यह योजना प्रारम्भ की गयी है। जब पूरी दुनिया कोरोना में तृस्त थी और लोग कोरोना में अपनी जान की परवाह कर रहे थें। तब प्रधान मंत्री जी प्रदेश सरकार केन्द्र सरकार गाॅव के गरीब किसानों के और उन गरीब आवादी की चिन्ता कर रही थी जो पुष्त दर पुष्त अपना मकान बनाकर रहते तो थे लेकिन उस जमीन का मालिक नही बन पाते थें इसके कारण समस्या उत्पन्न होती थी। अगर किसी कारण मकान टूटा तो फिर दबंग लोग उस जमीन पर फिर गरीबों को मकान नही बनाने देते थे। और उस व्यक्ति द्वारा उस जमीन पर मकान बनाने के लिए लेखपाल,राजस्व के किसी कर्मी को पैसे देने पडते थे। यह कभी कभी दबंगो द्वारा पैसा वसूला जाता था। इस योजना के माध्यम से किसी व्यक्ति को इस प्रकार की समस्या का सामना नही करना पडेगा। इस योजना के माध्यम से व्यक्ति के साथ साथ ग्राम पंचायते स्वावलंबी होगी। और हर व्यक्ति इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकेगा। उनके द्वारा बताया गया कि पहले लेखपाल द्वारा जमीनों के नाप जोख में कभी कभी बहुत शिकायतें आती थी। अब यह कार्य ड्रोन के माध्यम से हो रहा है। ड्रोन सर्व के माध्यम से एक एक इंच जमीन को नापने का काम किया जा रहा है। इस आधार पर हर एक घर के बारे में सही जानकारी और उसको अभिलेखों में उसी रूप में दर्ज किया जा रहा है। बताया कि खेतों के लिए जिस प्रकार खतौनी होती है अब उसी तर्ज पर घर के लिए घरौनी की व्यवस्था की गयी है।

 इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी कमलेश कुमार वैश्य, अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व रमेश चंद्र, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट /एसडीएम सदर संजय कुमार मीणा, डीपीआरओ राजेंद्र प्रकाश तथा अन्य संबंधित मौजूद रहे।