यहाँ के पैथोलॉजी सेण्टर की जाँच से स्वस्थ व्यक्ति हो रहे बीमार

 | 

अवधनामा संवाददाता

अम्बेडकरनगर अम्बेडकरनगर जिले की स्वास्थ्य सेवा का अजब गजब हाल है। जिला मुख्यालय नगर अकबरपुर में करीब पांच दर्जन पैथोलॉजी जांच केन्द्रों की कहानी अजीब है। पैथोलॉजी सेंटरों की रिपोर्ट से स्वस्थ व्यक्ति भी बीमार हो रहे हैं। नामी-गिरामी पैथोलॉजी सेंटरों की ओर से स्वस्थ व्यक्तियों की रिपोर्ट बीमारी वाला दिया जा रहा है।ऐसा ही एक मामला जिला मुख्यालय नगर की एक शिक्षिका का सामने आया है। शिक्षिका ने नए साल के पहले दिन बीते शनिवार को नगर एक नामी पैथोलॉजी सेंटर से प्रोफाइल जांच कराई। जांच में शिक्षिका को कई गंभीर रोगों का शिकार बता दिया गया। हालांकि शिक्षिका अपने को पूर्ण स्वस्थ मान रहीं थी मगर परिजन सकते में आ गए।हैरान-परेशान परिजनों ने पैथोलॉजी जांच की क्रास जांच कराई और लखनऊ जाकर की भी जांच कराई। क्रास और लखनऊ की जांच में शिक्षिका में केवल थायराइड से संबंधित मामूली समस्या होना पता चला। बाकी जांचों की रिपोर्ट पूरी तरह से सामान्य मिली। इससे परिजनों को भारी हैरत हुई। लखनऊ के चिकित्सक ने जिले की पैथोलॉजी की जांच रिपोर्ट पूरी तरह गलत बताया। गलत रिपोर्ट का यह कोई पहला मामला नहीं है। इस तरह के कई मामले प्रकाश में आ चुके हैं। पैथोलॉजी जांच रिपोर्ट ओं के चलते स्वस्थ व्यक्ति भी बीमार हो रहे हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ श्रीकांत शर्मा ने भी इसे गंभीर मामला बताया है। हालांकि ऐसी किसी शिकायत से इंकार किया है। कहा कि शिकायत मिलने पर जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी।
पैथोलॉजिस्ट नहीं जारी करते हैं रिपोर्ट
जिला मुख्यालय नगर अकबरपुर में कुकुरमुत्तों की तरह संचालित हो रहे पैथोलॉजी सेंटरों की कहानी अजब है। दो-चार को छोड़कर पांच दर्जन से अधिक पैथोलॉजी सेंटरों में पैथोलॉजिस्ट ही नहीं है। अप्रशिक्षित लोगों के जरिए पैथोलॉजी की जांच की जाती है और गलत रिपोर्ट देकर स्वस्थ व्यक्तियों को भी बीमार बता दिया जाता है।कमीशन के चक्कर में कराई जाती है जांच
पैथोलॉजी जांच चिकित्सकों के प्रश्रय पर होता है। अधिकांश जांच अनावश्यक तौर पर कराई जाती है। बताया जाता है कि इसमें चिकित्सकों का कमीशन तय होता है। कमीशन के लालच में चिकित्सकों की ओर से पैथोलॉजी जांच कराई जाती है और भारी भरकम रकम बटोर कर गलत रिपोर्ट देकर लोगों को बीमार किया जाता है। बीमारी के इलाज में लोगों की जेब ढीली की जाती है।