चंदेल की पत्नी की इंट्री से हमीरपुर के सियासी पारा में उछाल

 | 
हमीरपुर :

अवधनामा संवाददाता हिफजुर्रहमान। 

हमीरपुर :सदर विधान सभा हमीरपुर की सीट का राजनैतिक तापमान अचानक बहुत चढ़ गया है पारा चढ़नें की वजह जेल में बंद पूर्व विधायक व पूर्व सांसद अशोक सिंह चंदेल की पत्नी राजकुमारी सिंह चंदेल के चुनावी ऐलान से गरमा गया है। उन के मैदान में उतरने से सियासी समीकरणों में बदलाव आना लाजमी है। बुधवार को मुख्यालय आगमन पर चंदेल समर्थकों ने उनकी पत्नी का सैकड़ों वाहनों और हजारों की भीड़ के साथ जगह-जगह जोरदार स्वागत किया। इस दौरान उन्होंने शहर में खुली जीप में बैठकर भ्रमण कर लोगों का अभिवादन किया। अपनी कोठी की छत से जमा हुए लोगों को संबोधित करते हुए चुनाव में सहयोग की अपील की।

हमीरपुर-महोबा लोकसभा सीट पर अशोक सिंह चंदेल का तीन दशकों से ज्यादा दबदबा चला आ रहा है। इस दौरान वह तीन बार विधायक और एक बार सांसद भी चुने गए। मौजूदा समय में चंदेल हमीरपुर के बहुचर्चित सामूहिक हत्याकाण्ड में हाईकोर्ट से उम्रकैद की सजा होने के बाद से आगरा जेल में बंद हैं। चंदेल को जब सजा सुनाई गई तब वह सदर सीट से भाजपा के विधायक थे। उनके जेल जाने के बाद उनकी राजनैतिक विरासत को लेकर चर्चाएं थी। लोग उनके पुत्रों अभयराज और अजयराज को उनके उत्तराधिकारी के रूप में देख रहे थे। लेकिन चुनाव के नजदीक आते ही चंदेल की पत्नी राजकुमारी चंदेल के चुुनाव मैदान में आने का ऐलान होते ही उनके समर्थकों में हर्ष की लहर दौड़ गई। 

बुधवार को राजकुमारी चंदेल का मुख्यालय आगमन हुआ। दुर्गा मंदिर मोड़ से लेकर यमुना पुल तक राजकुमारी चंदेल के स्वागत-सत्कार में उनके समर्थक डटे हुए थे। सैकड़ों की संख्या में वाहन काफिले में थे। शहर में प्रवेश करते ही रानी लक्ष्मीबाई तिराहा, कुमुद नर्सिंग होम, पेट्रोल पंप, अमन शहीद, कोतवाली तिराहा, अस्पताल तिराहा, किंगरोड, आकिल तिराहा में जगह-जगह राजकुमारी चंदेल का समर्थकों ने फूल-मालाओं से स्वागत किया। खुली जीप में आगे बैठी राजकुमारी चंदेल सभी का हाथ हिलाकर अभिवादन करते हुए चल रही थी। 

विवेक नगर स्थित अपनी कोठी पहुंची राजकुमारी चंदेल ने छत से ही लोगों को संबोधित किया। एक पैर से विकलांग होने की वजह से राजकुमारी ने कुर्सी से बैठे-बैठे अपने समर्थकों का आभार जताते हुए चुनाव में उसी तरह सहयोग सहयोग की अपील की जैसे उनके पति का करते रहे हैं। उनके दोनों पुत्रों अभयराज और अजयराज ने भी कहा कि जनता ही हमारा परिवार है और हम इस चुनाव में नेता नहीं परिवार के सदस्य के रूप में आ रहे हैं। हालांकि अभी तक यह तय नहीं है कि राजकुमारी चंदेल किसी राजनैतिक दल से चुनाव लड़ेंगी या फिर निर्दलीय प्रत्याशी की हैसियत से चुनाव मैदान में आएंगी। लेकिन आज के उनके रोड शो ने राजनैतिक दलों में हलचल बढ़ा दी है।