परिवहन व्यवसाय को घाटे में पहुंचा रही है सरकार की नीतियां: ब्रित चावला

लाखों रुपए के नोटिस भेजना परिवहन विभागो के साथ विश्वासघात
 
 | 
परिवहन व्यवसाय को घाटे में पहुंचा रही है सरकार की नीतियां: ब्रित चावला

अवधनामा संवाददाता 

सहारनपुर। सहारनपुर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष व प्रभारी ब्रित चावला ने कहा कि सरकार द्वारा ऐसी नीतियां बनाई जा रही है, जिससे कि परिवहन व्यवसाय घाटे में जा रहा है, जबकि ट्रांसपोर्ट नगर में नगरीय क्षेत्रों से अपने व्यवसाय को स्थानांतरित करते हुए सहारनपुर विकास प्राधिकरण द्वारा स्थापित किए गए हैं। सभी परिवहन व्यवसाई अपने आप को ठगा महसूस कर रहे हैं। उन्होंने ट्रांसपोर्ट नगर में सफाई, पेयजल व्यवस्था व सीवरेज लाईन समेत कई समस्याओं का प्रमुखता से उठाते हुए निजात दिलाने की भी मांग की।
ट्रांसपोर्ट नगर में आरटीओ चौक के समीप एक ट्रांसपोर्टर के प्रतिष्ठान पर सहारनपुर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन की आयोजित बैठक में एसोसिएशन के अध्यक्ष व प्रभारी ब्रित चावला ने कहा कि सरकार द्वारा ऐसी नीतियां बनाई जा रही है, जिससे कि परिवहन व्यवसाय घाटे में जा रहा है, जबकि ट्रांसपोर्ट नगर में नगरीय क्षेत्रों से अपने व्यवसाय को स्थानांतरित करते हुए सहारनपुर विकास प्राधिकरण द्वारा स्थापित किए गए हैं। सभी के सभी परिवहन व्यवसाई अपने आप को ठगा महसूस कर रहे हैं। श्री चावला ने विस्तार से बताते हुए कहा की भयंकर बीमारी से जूझने के बाद परिवहन व्यवसाय में मंदी का दौर है और वाहनों की संख्या अधिक है और माल की आमद वह निर्गत सामान्य से भी कम है। श्री चावला ने इस बारे में जानकारी दी कि परचून एवं थोक समान लगातार रोजाना 200 ट्रकों के करीब भेजा जाता था और लगभग 160 के ट्रकों के करीब बाहर से समान आता था। इनकी संख्या अब 90 और 65 तक सीमित रह गई है और इसका जो प्रभाव पड़ा है, वह अत्यंत चिंताजनक है।उन्होंने बताया कि रोजाना वाहनों की मौजूदगी और चक्कर के हिसाब से पूरा संचालन ना हो पाना अत्यंत गंभीर विषय है, जिससे सारी अर्थव्यवस्था चौपट तो हो ही जाएगी और प्रतिस्पर्धा को प्रस्थान मिलेगा। आगे इसके  विषय में जो परिणाम आएंगे वह व्यवसाय को समाप्त करने वाले होंगे। श्री चावला ने प्रदेश सरकार से परिवहन व्यवसाय के बारे में भी ध्यान दिए जाने की और इस को संभालने की और ध्यान आकर्षित कियाऔर उत्तर प्रदेश सरकार और केंद्र सरकार से मांग की कि ट्रांसपोर्ट व्यवसाय के संचालन में जो परेशानियां आ रही है, उसके ऊपर तुरंतध्यान दिया जाए।
एसोसिएशन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सरदार पीपी सिंह, कोषाध्यक्ष मुकेश दत्ता एवं जनसंपर्क अधिकारी प्रेम शर्मा और रवि ट्रांसपोर्ट के स्वामी कुलदीप, मुल्लाजी ट्रांसपोर्ट वाले सलीम आदि सभी ने चिंता जताते हुए एक मत से मांग करते हुए कहा कि नगर निगम सहारनपुर द्वारा बिना किसी प्रकार की सहायता के कोई सहयोग ट्रांसपोर्ट नगर में ना होने के बावजूद सफाई सीवरेज आदि पेयजल शौचालय अनेकों समस्याओं से ट्रांसपोर्ट नगर जूझ रहा है और लाखों रुपए के नोटिस भेजने का तात्पर्य नगर निगम द्वारा ट्रांसपोर्ट नगर में नगरीय क्षेत्रों से परिवहन व्यवसायी जोकि अत्यंत मुश्किलों से अपने व्यवसाय को बचाने में लगे हुए हैं को आतंकित किया जा रहा है। अगर इसी तरीके से माहौल बना रहा, तो परिवहन व्यवसायियों को जाना पड़ सकता है और वापस जाकर नगरीय क्षेत्रों में पुणे व्यवसाय करने पर मजबूरन होना पड़ेगा। बैठक की अध्यक्षता करते हुए एसोसिएशन के संरक्षक चौधरी महेंद्र सिंह ने मांग करते हुए कहा कि ट्रांसफर नगर तो अभी बस भी नहीं पाया है। सफाई सीवरेज शौचालय अनेकों मूलभूत समस्या है, जो कि कोई सुनवाई नहीं हो पा रही है। लाखों रुपए के नोटिस भेजना परिवहन विभागो के साथ विश्वासघात है। नोटिस के बारे में परिवहन व्यवसाई हताश है। इसलिए सरकार को हमारी समस्याओं पर गंभीरतापूर्वक सहानुभूति तरीके से विचार कर कार्रवाई करनी चाहिए।