उत्तम आचार-विचार आहार सुखी व स्वस्थ्य रहने का मूल कारण : आचार्य भवदेव

गीता प्रवचन महोत्सव हर सोमवार मंगलवार को ऑनलाइन जारी

 | 
उत्तम आचार-विचार आहार सुखी व स्वस्थ्य रहने का मूल कारण : आचार्य भवदेव

अवधनामा संवाददाता 

महरौनी(ललितपुर) महर्षि दयानन्द सरस्वती योग संस्थान आर्य समाज महरौनी के तत्वावधान मैं  संयोजक आर्य रत्न शिक्षक लखन लाल आर्य मंत्री आर्य समाज द्वारा आयोजित गीता महोत्सव कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वैदिक विद्वान आचार्य भवदेव शास्त्री अजमेर  ने कहा कि भगवान कृष्ण ने गीता के माध्यम से हम सभी के जीवन के  दुखों को दूर करने का उपाय बताया है। भगवान कृष्ण कहते हैं कि अपने आहार ,अपनी दिनचर्या को अपना सोना और जागने को यदि हमने ठीक कर लिया तो इससे हमारा स्वास्थ्य अच्छा रहेगा। शास्त्री ने बताया कि आयुर्वेद हमें स्वस्थ जीवन शैली के लिए प्रेरित करता है ।आज अधिकांश बीमारियां गलत खानपान व गलत दिनचर्या के कारण से पैदा हो रही है। इस अवसर पर उन्होंने लोगों को स्वस्थ जीवन जीने के उपाय बताएं। गुरूकुल पौंधा देहरादून आचार्य शिवदेव आर्य ने कहा कि हम सभी को अपनी युवा पीढ़ी को वैदिक धर्म संस्कृति से जोड़ना होगा। वैदिक विद्वान आचार्य चंद्रशेखर शर्मा ग्वालियर ने कहा कि हम सभी को सुखी रहने के लिए स्वाध्याय करना जरूरी है उसमें गीता ग्रन्थ बहुत ही सहायक हैं।

वेविनार में आर्य समाज के प्रधान मुनि पुरुषोत्तम वानप्रस्थडॉ राजेन्द्र प्रकाश श्रीवास्तव प्राचार्य करकरुआबृजेन्द्र कुमार नापित ललितपुरदीप सेन सरखडीअवधेश प्रताप सिंह बैस महरौनीछमाधर प्रसाद अहिरवार शिक्षक महरौनीपारसमणि पुरोहित मिदरवाहा, ध्यान सिंह यादवश्रीराम सेन पत्रकार सिलवानीचन्द्रभान सेन राज्यपाल पुरुष्कृत पन्ना, मिथलेश गौर, पुष्पा आर्य हापुड़, परमानंद सोनी भोपालयशपाल सिंह ठाकुर महरौनी,  नरेश यादव मुम्बई, शिवकुमार यादव बिजौर, रामचन्द्र कुशवाहा बिजौर सहित सैकड़ों आर्यजन जुड़े रहें। संचालन लखन लाल आर्य एवं आभार शिक्षक बृजेन्द्र कुमार नापित घिसौली जखौरा ने जताया।