गरीब बनकर व्यापारी के पास आए जालसाजो ने लगाई एक लाख की चपत

 | 
गरीब बनकर व्यापारी के पास आए जालसाजो ने लगाई एक लाख की चपत

अवधनामा संवाददाता

लखनऊ। लखनऊ कमिश्नरेट की कृष्णा नगर पुलिस ने एक महिला सहित तीन ऐसे शातिर जालसाजो को गिरफ्तार कर विदेशी मुद्रा व 4 मोबाइल बरामद किए हैं जो रहने वाले असम राज्य के हैं और एक कारोबारी को उन्होंने अमेरिकी डालर दिखाकर अपने आप को गरीब बता कर उनसे डॉलर का कम कीमत में सौदा किया और कारोबारी को डॉलर की गड्डी की जगह पर कागज की गड्डी थमा कर 1 लाख रुपए लेकर रफूचक्कर हो गए। राजाजीपुरम के रहने वाले कारोबारी पवन कुमार शर्मा की तहरीर पर कृष्णा नगर पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया और आज असम राज्य के रहने वाले अब्बास अली उसकी पत्नी हलीमा और असम राज्य के ही रहने वाले सिद्ध आबू खान को गिरफ्तार कर 200 अमेरिकी डॉलर 63 सौ रुपए की भारतीय मुद्रा चार मोबाइल फोन और एक स्कूटी बरामद की है। इंस्पेक्टर कृष्णानगर आलोक कुमार राय ने बताया कि गिरफ्तार किए गए लोग पवन कुमार के पास आए और उन्होंने एक अमेरिकी डालर दिखाकर उनसे कहा कि उन्हें ये नोट कूड़े में मिले है उनके पास इस तरह के बहुत से नोट हैं लेकिन उन्हें यह नहीं पता है इन नोटों की कीमत क्या है । जालसाजो के द्वारा पवन कुमार को 20 डॉलर का एक नोट देकर कहा गया कि वह इस नोट को 100 में बेचेंगे । करीब करीब 15 सौ रुपए कीमत का नोट मात्र सौ रुपए में मिलने के लालच में आए पवन कुमार ने इन जालसाज़ों को दूसरे दिन बुलाया तो जालसाज़ों ने अखबार के बंडल में लिपटी हुई डालर की गड्डी इन्हें दिखाई और उनसे डालर की गड्डी के बदले 1 लाख रुपए ले लिया गया जालसाज़ों के द्वारा पवन कुमार को बताया था कि गया था कि वह अपनी बेटी की शादी करना चाहते हैं इस पैसे से उनकी बेटी की शादी अच्छे तरीके से हो जाएगी। पवन कुमार से 1 लाख रुपए लेने के बाद जालसाज़ों ने हाथ की सफाई का इस्तेमाल किया और डॉलर की गड्डी को बदलकर कागज की गड्डी पवन को थमाई और उनके पैर छूकर वहां से रफूचक्कर हो गए । जालसाजो के द्वारा 1 लाख रुपए की ठगी का शिकार हुए पवन कुमार शर्मा ने कृष्णा नगर थाने में मुकदमा दर्ज कराया तो कृष्णा नगर पुलिस ने असम राज्य के रहने वाले इन तीनों जालसाज़ों को गिरफ्तार कर लिया । इस्पेक्टर कृष्णा नगर ने बताया कि गिरफ्तार किए गए जालसाज पारा इलाके में फुटपाथ पर रहते हैं ये जांच की जा रही है कि इन लोगों के द्वारा और कितने लोगों को इस तरह से जालसाजी का शिकार बनाया गया है । पुलिस यह भी पता लगाने का प्रयास कर रही है कि कूड़ा बीनकर जीवन बसर करने वाले इन जालसाजो के पास अमेरिकी डॉलर की गड्डी कहां से आई है।