आत्मा के आनंद के लिए प्रार्थना ईश्वर की ही करें : आचार्य वेदार्थी

 | 
आत्मा के आनंद के लिए प्रार्थना ईश्वर की ही करें : आचार्य वेदार्थी

अवधनामा संवाददाता 

महरौनी ललितपुर। महर्षि दयानन्द सरस्वती योग संस्थान आर्य समाज महरौनी के तत्वाधान में सत्य सनातन वैदिक धर्म के प्रचार प्रसार हेतु पूजा का वैदिक स्वरूप भाग -दो  विषय पर ऑनलाइन वेविनार का आयोजन संयोजक लखन लाल आर्य द्वारा किया गया हैं। आर्य जगत के वैदिक विद्वान आचार्य पण्डित विष्णुमित्र वेदार्थी बिजनौर ने कहा कि आत्मा के सुख के लिए प्रार्थना केवल ईश्वर से करें जड़ पदार्थों से नहीं। हम देखते है कोई गंगा से प्रार्थना कर रहा है कोई सूर्य से,तो कोई वृक्षों से,तो कोई पहाड़ों से प्रार्थना कर रहा हैं यह सभी जड़ पदार्थ हैं  जो केवल भौतिक सुख तो दे सकते है लेकिन आत्मिक सुख चेतन अर्थात ईश्वर से पुरुषार्थ करके ही प्राप्त किया जा सकता हैं।

महर्षि दयानन्द सरस्वती वेद के माध्यम से ईश्वर का स्वरूप बताते हुए कहा कि ईश्वर सच्चिदानंद स्वरूपनिराकारसर्वशक्तिमानन्यायकारीदयालुअजन्माअनंतनिर्विकारअनादिअनुपमसर्वाधारसर्वेश्वरसर्वव्यापकसर्वान्तर्यामीअजरअमरअभय,  नित्यपवित्रऔर सृष्टिकर्ता है उसी की उपासना करने योग्य हैं। वेविनार में आर्य समाज के प्रधान मुनि पुरुषोत्तम वानप्रस्थरामसेवक निरंजन शिक्षक,प्रेम शंकर तिवारी प्रधानाचार्य,ध्यान सिंह यादव मिदरवाहा ,सन्दीप सोनी,पत्रकार कमलेश कश्यप मडावरा,दीपक सेन मडावराडॉ रंजन लता आर्य गोरखपुर,शिशुपाल सिंह सेवानिवृत्त  जिला सम्सज कल्याण अधिकारी मैनपुरी,कपिल आर्य शिक्षक हमीरपुर,डॉ विवेक आर्य भरुआ सुमेरुपुरनीरज वर्मा आईटीआई महरौनी,पारसमणि पुरोहित,राधा भक्ति भारतीमहिपत सिंह निरंजनयोगाचार्य भावनी शंकर लोधी शिक्षकराम उजागर लोधी,अवधेश प्रताप सिंह,रमेश चन्द्र सेन कमालपुरराज्यपाल पुरुष्कृत शिक्षक चन्द्रभान सेन पन्ना,परमानंद सोनी भोपाल,श्रीराम सेन पत्रकार सिवनीशशिकांत मिश्रा पत्रकार देवरिया,नरेश यादव मुम्बईभूपेंद्र सेन लोको पायलेट झाँसी,श्याम सुंदर सविता ग्वालियर,विजय प्रकाश उर्फ पप्पू ठाकुर शिक्षक बिहार,बसुंधरा सेन झाँसी,देवेंद्र सेन वेदांश मेडिकल महरौनी आदि सैकड़ो लोग जुड़े रहें। संचालन संयोजक आर्य रत्न शिक्षक लखन लाल आर्य एवं आभार डॉ लोकेश चन्द्र आचार्य प्रधानाचार्य बरेली ने जताया।