कृषि विश्वविद्यालय द्वारा विश्व मत्स्य दिवस पर संपन्न हुई मत्स्य पालक गोष्ठी

मछलियों का जलीय वातावरण का संतुलन बनाए रखने में अहम योगदान : सांसद लल्लू सिंह

 | 
कृषि विश्वविद्यालय द्वारा विश्व मत्स्य दिवस पर संपन्न हुई मत्स्य पालक गोष्ठी 
अवधनामा संवाददाता 

अयोध्या। आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय कुमारगंज अयोध्या के मत्स्य महाविद्यालय एवं कृषि विज्ञान केंद्र, मसौदा द्वारा विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ बिजेंद्र सिंह के कुशल मार्गदर्शन एवं अध्यक्षता में विश्व मत्स्य दिवस एवं मत्स्य पालक गोष्ठी का आयोजन, कंपनी गार्डन, गुप्तार घाट अयोध्या में आयोजित किया गया। जिसमें 312 मत्स्य पालक कृषक तथा छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अयोध्या जनपद के माननीय सांसद श्री लल्लू सिंह ने किसानों को मछली पालन हेतु प्रेरित करते हुए उन्हें विभिन्न प्रकार की मछलियां जैसे रोहू, कतला, नयन, कार्प आदि का पालन कर अधिक से अधिक लाभ प्राप्त करने की सलाह दी । इस अवसर पर विश्वविद्यालय द्वारा सरयू नदी में रोहू मछली के 15000 अंगुली का मुख्य अतिथि तथा विश्वविद्यालय के कुलपति द्वारा छोड़े गए। मछलियों का जलीय वातावरण का संतुलन बनाए रखने में अहम योगदान होता है। यदि इनकी संख्या जल या नदी में घट जाती है, तो जलीय वातावरण का संतुलन बिगड़ जाता है । अतः जलीय वातावरण का संतुलन बनाए रखने के लिए रोहू मछली की 15000 अंगुलीका छोड़ा जाना सराहनीय कार्य है। विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. बिजेंद्र सिंह ने अपने अध्यक्षीय भाषण में कृषकों एवं मत्स्य विज्ञान के छात्र-छात्राओं को मछली उत्पादन में भारत की उत्पादकता 14.16 मिलीयन मेट्रिक टन कुल मत्स्य उत्पादन के साथ विश्व में तीसरे स्थान पर तथा देश में उत्तर प्रदेश, मीठे पानी की कुल मछलियों की उत्पादकता में दूसरे स्थान पर होने के लिए मत्स्य पालक कृषकों मत्स्य विज्ञान के छात्रों तथा वैज्ञानिकों की सराहना की।  उन्होंने बताया कि गत वर्ष उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित सहायक निदेशक मत्स्य के  कुल 11 पदों में से  9 पदों पर नियुक्ति हमारे विश्वविद्यालय के छात्रों की हुई है, जो एक सराहनीय प्रयास है।अतिथियों का स्वागत अधिष्ठाता मत्स्य महाविद्यालय डॉ. पी. एस. प्रमाणिक ने की। कार्यक्रम का संचालन कृषि विज्ञान केंद्र मसौदा के अध्यक्ष शशिकांत यादव ने किया । इस अवसर पर मत्स्य महाविद्यालय के वैज्ञानिक डॉ. शकीला खान, डॉ. सी.पी. सिंह, डॉ. लक्ष्मी प्रसाद, डॉ. दिनेश कुमार तथा श्री सुनील कांत वर्मा द्वारा मछली पालन के विभिन्न विषयों पर व्याख्यान दिए गए तथा किसानों की समस्याओं का समाधान किया गया । 

विश्वविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ अखिलेश कुमार सिंह ने बताया कि कार्यक्रम के दौरान विश्वविद्यालय के कुलपति के सचिव डॉ. जसवंत सिंह, डॉ. देश दीपक सिंह, उप निदेशक मत्स्य अयोध्या मंडल डॉ. राजेंद्र सिंह बिष्ट, डॉ. पी. के. सिंह, कार्यालय अधीक्षक शिव शंकर सिंह, इं. रवि शंकर, सुनील दुबे सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।