राजस्व प्रशासन के रवैये के चलते किसान परेशान

 | 

अवधनामा संवाददाता 

जलालपुर अम्बेडकरनगर। बिगत कई वर्षों से अपने खतौनी के पैमाइश के लिए रुपया ट्रेजरी में जमाकर न्यायालय में वाद दायर कर किसान तहसील व राजस्व निरीक्षक का दौड़ लगा रहा है किन्तु अभी तक राजस्व निरीक्षक द्वारा पैमाइश की बात छोड़िये प्रारंभिक रिपोर्ट तक नही लगाई गई।राजस्व प्रशासन के ढुलमुल रवैया के चलते किसान जहाँ परेशान है वही अधिकारी व कर्मचारी मस्त नजर आ रहे है।दो सप्ताह पूर्व उपजिलाधिकारी द्वारा दिये गए आदेश का पालन नही किया जा रहा है।बिदित हो कि तहसील जलालपुर में दशकों से लगभग सैकड़ों हद बरारी के मुकदमे लंबित है।किसान अपने भूमि के पैमाइश के लिए रुपया कोषागार में जमाकर अधिवक्ता के माध्यम से प्रार्थना पत्र दे चुका है किंतु राजस्व निरीक्षक पत्रावली अपने पास रख किसानों को दौड़ा रहे है। मालीपुर के किसान राम नयन यादव रुकूंनपुर कासिमपुर के किसान जयराम व चंद्रबली, बैरागल के दयाराम,बरौना के राम मूरत,कन्नुपुर के त्रिलोकी, रत्ना के रामअचल,धौरूवा के सुरेश कुमार समेत दर्जनों किसान हदबरारी के लिए तहसील का चक्कर लगा रहे हैं किंतु उनकी पैमाइश नहीं की जा रही है। पैमाइश नहीं होने से किसानों के सामने समस्या उत्पन्न हो गई है। वरिष्ठ अधिवक्ता आशुतोष श्रीवास्तव व सुनील सिंह ने बताया कि राजस्व निरीक्षक हद बरारी में प्रारंभिक जांच ही नहीं कर पाये है यही नहीं दर्जनों प्रकरण ऐसे हैं जिसमें राजस्व निरीक्षक ने बगैर स्थलीय निरीक्षण के गलत आख्या लगा दिया।लगभगदो सप्ताह पूर्व उपजिलाधिकारी  अभय कुमार पांडे ने राजस्व निरीक्षक को लंबित हद बरारी प्रकरण को अविलंब पैमाइश का आदेश दिया था किंतु उनके आदेश का कोई असर नहीं हुआ।इस बावत राजस्व निरीक्षक प्रवेश कुमार और अंकिता सिंह से फोन पर बात करने का प्रयास किया गया किन्तु फोन नाट रिचवेल रहा।उपजिलाधिकारी अभय कुमार पाण्डेय ने बताया कि अब कार्यवाही की जायेगी।