सभी सीएमओ हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर्स के उद्देश्यों की पूर्ति सुनिश्चित करायें : विजय विश्वास पन्त

सर्वोच्च विकास प्राथमिकता कार्यक्रमों की मण्डलायुक्त ने किया समीक्षा बैठक
 
 | 
सभी सीएमओ हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर्स के उद्देश्यों की पूर्ति सुनिश्चित करायें :  विजय विश्वास पन्त

अवधनामा संवाददाता 

आज़मगढ़। मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त ने कहा है कि आयुष्मान भारत योजना के तहत जिन लोगों के गोल्डेन कार्ड बन गये हैं उन्हें उपचार में उसका समुचित उपयोग करने हेतु पूरी जानकारी दें, ताकि शासन की मंशा के अनुरूप गोल्डेन कार्ड की सार्थकता सिद्ध हो सके। मण्डलायुक्त श्री पन्त अपने कार्यालय के सभागार में शासन द्वारा निर्धारित सर्वोच्च विकास प्राथमिकता कार्यक्रमों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने मण्डल के जनपदों में विकास कार्यक्रमों को गति देने के दृष्टिगत संयुक्त विकास आयुक्त पीएन वर्मा को निर्देश दिया कि वर्तमान माह से दिसम्बर माह तक प्रत्येक माह में पूर्ण किये जाने हेतु सड़क व भवन निर्माण एवं मरम्मत कार्य के माहवार लक्ष्य का विवरण उपलब्ध करायें, ताकि सम्बन्धित विभागों की नियमित समीक्षा कर लक्ष्य के अनुरूप कार्य समय से कार्य पूर्ण कराया जा सके। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने स्वास्थ्य विभाग के कई कार्यक्रमों में जनपद बलिया की प्रगति कम मिलने पर असन्तोष व्यक्त करते हुए अपर निदेशक, स्वास्थ्य एवं सीएमओ बलिया को निर्देशित किया कि जिन कार्यक्रमों की प्रगति लक्ष्य के सापेक्ष नहीं है उसमें आगामी तक अपेक्षित प्रगति लाना सुनिश्चित करें। समीक्षा में पाया गया कि आयुष्मान भारत योजना के तहत आज़मगढ़ में कुल एक लाख 57 हजार 391, मऊ में एक लाख 24 हजार 503 तथा बलिया में दो लाख 30 हजार 754 गोलडेन कार्ड बनाये गये हैं परन्तु उसके सापेक्ष आज़मगढ़ में कुल 2112, मऊ में 4896 एवं बलिया में 393 लाभार्थियों द्वारा निजी एवं राजकीय चिकित्सालयों में उपचार कराया गया है। मण्डलायुक्त ने कहा कि उपचारित लाभार्थियों की संख्या कम मिलने से स्पष्ट होता है कि योजना के सम्बन्ध में लोगों में पर्याप्त जानकारी का अभाव है। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने निर्देश दिया कि एएनएम, आशाओं एवं अन्य संसाधनों का उपयोग कर पूरी क्षमता के साथ कार्डधारकों को जानकारी उपलब्ध कराकर उन्हें जागरुक किया जाय। इसी क्रम में उन्होंने तीनों जनपद के मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को निर्देशित किया कि जो भी हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर अभी बनना शेष हैं उन्हें शीघ्र बनवाया जाय तथा जो हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर सक्रिय हो गये हैं वहॉं सभी कार्यों का सम्पादन करायें तथा सेन्टर्स की स्थापना के उद्देश्यों की शत प्रतिशत पूर्ति सुनिश्चित करायें। उन्होंने आज़मगढ़ के बिलरियागंज एवं लालगंज स्वास्थ्य केन्द्रों पर सीजर कम मिलने पर नाराजगी व्यक्त किया। इस सम्बन्ध में उन्होंने जिलाधिकारी आज़मगढ़ से कहा कि इन दोनों स्वास्थ्य केन्द्रों पर सख्ती के साथ सीजर के लक्ष्यों की पूर्ति सुनिश्चित करायें। यदि प्रगति सन्तोषजनक नहीं मिलती है तो सम्बन्धित की जिम्मेदारी तय करते हुए उनके विरुद्ध कठोर कार्यवाही करायें।
मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त ने निर्देश दिया कि खण्ड विकास अधिकारी गांवों में जाये तथा मनरेगा के तहत कराये जा रहे कार्यों की गुणवत्ता, मजदूरों की संख्या आदि का निरीक्षण करें। उन्होंने कहा कि जिन विभागों द्वारा वृक्षारोपण किया गया है उनसे सम्बन्धित अधिकारी रोपित पौधों के संवर्धन एवं संरक्षण की सुदृढ़ व्यवस्था सुनिश्चित करें। श्री पन्त ने कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण काफी लम्बे गैप के बाद विद्यालय खुल गये हैं, इसलिए अध्यापकों के साथ ही बच्चों की उपस्थिति पर विशेष ध्यान दिया जाय। इस सम्बन्ध में उन्होंने एडी बेसिक को निर्देशित किया कि प्राथमिक विद्यालयों में गत शिक्षा सत्र के गैप को भरने के लिए पूरी व्यवस्था की जाय तथा इस वर्ष जो बच्चे कक्षा 2 में गये हैं गत वर्ष के गैप को देखते हुए उनके अक्षर ज्ञान पर विशेष ध्यान दिया जाय। उन्होंने निःशुल्क पुस्तक वितरण, पेयजल व्यवस्था, विद्यालय परिसर एवं शौचालयों की सफाई आदि कार्य तत्काल कराये जाने का भी निर्देश दिया। मण्डलायुक्त पन्त ने अन्य कार्यक्रमों की समीक्षा के दौरान जनपद मऊ एवं बलिया में ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल के माध्यम से प्रमाण पत्र निर्गत करने की प्रगति को बढ़ाने, धारा 24 के वादों का समय से निस्तारण कराने, अविवादित वरासत के लम्बित मामलों को शीघ्र निस्तारित कराये जाने का निर्देश दिया। उन्होंने मुख्य अभियन्ता, विद्युत को निर्देश दिया कि बिजली के बिलों को नियमित रूप से समय पर उपभोक्ताओं को उपलब्ध कराया जाय ताकि वसूली की प्रगति अच्छी रहे। मण्डलायुक्त के निर्देश पर अपर आयुक्त (प्रशासन) अनिल कुमार मिश्र ने कर करेत्तर वसूली एवं अन्य राजस्व कार्यों आदि की समीक्षा के दौरान आज़मगढ़ में आरसी के माध्यम से कई विभागों की राजस्व वसूली कम मिलने पर उन्होंने अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) आज़मगढ़ को निर्देश दिया कि वसूली बढ़ाकर लक्ष्य की शत प्रतिशत पूर्ति हेतु पाक्षिक रूप से समीक्षा करें। अपर आयुक्त श्री मिश्र ने नगर निकायों की वसूली की समीक्षा में आजमगढ़ में लक्ष्य के सापेक्ष 57 प्रतिशत एवं बलिया में 54 प्रतिशत वसूली मिलने पर अप्रसन्नता व्यक्त किया तथा दोनों जनपद के अपर जिलाधिकारियों को निर्देश दिया कि अपने स्तर से निकायवार समीक्षा कर लें तथा कम वसूली करने वाली नगर पंचायतों के विरुद्ध कार्यवाही करें। मुख्य देयों की वसूली में पाया गया कि आज़मगढ़ द्वारा इस मद में लक्ष्य की प्राप्ति कर ली गयी है, परन्तु मऊ में 60 हजार एवं बलिया में 20 हजार शेष रह गया है। इस सम्बन्ध में अपर आयुक्त श्री मिश्र ने निर्देश दिया कि आगामी माह तक शेष वसूली अवश्य पूरी कर ली जाय। इस अवसर पर जिलाधिकारी आज़मगढ़ राजेश कुमार, जिलाधिकारी बलिया अदिति सिंह, जिलाधिकारी मऊ अमित सिंह बंसल, अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) आज़मगढ़ आज़ाद भगत सिंह, अपर जिलाधिकारी मऊ केहरी सिंह, अपर जिलाधिकारी बलिया राम आसरे सिंह, संयुक्त विकास आयुक्त पीएन वर्मा, सीडीओ आज़मगढ़ आनन्द कुमार शुक्ला, सीडीओ मऊ रामसिंह वर्मा, सीडीओ बलिया प्रवीण कुमार वर्मा, उप निदेशक अर्थ एवं संख्या तौकीर हुसैन, मण्डलीय अर्थ एवं संख्याधिकारी डा. नीरज श्रीवास्तव, मुख्य अभियन्ता लोनिवि एके मणि, वन संरक्षक डा. बीसी ब्रम्हा सहित अन्य मण्डलीय एवं जनपदीय अधिकारी उपस्थित थे।