सामुदायिक सहभागिता परिषदीय विद्यालयों के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण देवेंद्रमणि

 | 
सामुदायिक सहभागिता परिषदीय विद्यालयों के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण देवेंद्रमणि
अवधनामा संवाददाता

हैरिंग्टनगंज-अयोध्या। शिक्षा क्षेत्र के खंड विकास अधिकारी सभागार में गुरूवार को विद्यालय प्रबंध समिति के अध्यक्ष, सचिव एवं ग्राम प्रधान की संगोष्ठी आयोजित की गई। संगोष्ठी के मुख्य अतिथि विधायक गोरखनाथ बाबा के प्रतिनिधि देवेन्द्र मणि त्रिपाठी रहे। प्रबंध समिति के अध्यक्षों को उनके अधिकार व कर्तव्यो के सम्बन्ध में विस्तार  से बताया गया। कम्पोजिट विद्यालय पाराताज पुर की छात्राओं ने सरस्वती वंदना, स्वागत गीत नृत्य के साथ प्रस्तुत किया जबकि कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय की बालिकाओं ने भी सरस्वती वन्दना की प्रस्तुति दी।

कार्यक्रम की अध्यक्षता खंड शिक्षा अधिकारी शैलजा मिश्रा ने की तथा संचालन एआरपी श्रीकान्त द्विवेदी ने किया। मुख्य अतिथि विधायक प्रतिनिधि श्री त्रिपाठी ने संगोष्ठी को संबोधित करते हुए कहा कि सरकारी तंत्र में जब तक सामाजिक लोगों की सहभागिता नहीं होती तब तक किसी भी सरकारी कार्य को अमलीजामा नहीं पहनाया जा सकता । विधायक प्रतिनिधि ने कहा कि हमारी सरकार ने बुनियादी शिक्षा को मजबूत करने के लिए बेसिक विद्यालयों का कायाकल्प करने का काम किया है। मुख्य अतिथि ने स्वागत गीत, सरस्वती वंदना व लघु नाटिका प्रस्तुत करने वाली छात्राओं की भूरि भूरि प्रशंसा  किया।

 एआरपी  शिव बहादुर पाठक, अनिल सिंह, विजय शेखर मौर्य तथा संकुल शिक्षक मनीष देव गुप्त  ने अभिभावकों शिक्षकों एवं ग्राम प्रधानों को संबोधित करते हुए एसएमसी के गठन कर्तव्य एवं दायित्व का बोध कराने के साथ साथ निपुण भारत, समर्थ कार्यक्रम, शारदा कार्यक्रम, ऑपरेशन कायाकल्प, मिशन प्रेरणा सहित विभिन्न विषयों पर प्रतिभागियों का उन्मुखीकरण किया। संकुल शिक्षक मनीष देव ने कोविड-19 के समय कार्य कर चुके ब्लॉक के समस्त प्रेरणा साथी को सम्मानित करने के लिए खंड शिक्षा अधिकारी महोदय से अनुरोध किया, जिस पर खंड शिक्षा  अधिकारी हैरिंग्टनगंज  ने उक्त कार्यक्रम को 15 जनवरी के बाद कराने के लिए अपनी सहमति प्रदान कर दी, तथा इस प्रस्ताव के लिए सराहना भी की। अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में खंड शिक्षा अधिकारी शैलजा मिश्रा ने कहा कि विद्यालय के प्रबंधन, रखरखाव एवं विकास कार्यों में अभिभावकों एवं एसएमसी अध्यक्ष की महती भूमिका है। सुश्री शैलजा मिश्रा जी ने कार्यक्रम में आए हुए सभीं शिक्षकों, ग्राम प्रधानों एवं एस एम सी अध्यक्ष का स्वागत करते हुए आभार प्रकट किया तथा मंचस्थ अतिथियों का बुके व स्मृतिचिन्ह देकर स्वागत किया। बाल विकास परियोजना अधिकारी ओम प्रकाश ने पूर्व प्राथमिक शिक्षा के विषय में अपने विचार व्यक्त किये। 

संगोष्ठी में अरुण कुमार तिवारी, संतोष कुमार द्विवेदी, रामनिहाल यादव, राजेंद्र मिश्र, वीरेंद्र दुबे, हनुमान सिंह, नंद लाल पाल, रंजीत यादव, संतोष यादव, अजय मधुकर द्विवेदी, प्रमेश पांडे, जामवंत, विद्यासागर मिश्र, संतोष कुमारी ,राजेश यादव ,पूनम, अरविंदप्रताप, अनंतराम, दीपक कुमार, सत्य प्रकाश आदि उपस्थित रहे।