ग्यारह सूत्रीय मांगों को लेकर प्रदर्शन कर दिया ज्ञापन

 | 
ग्यारह सूत्रीय मांगों को लेकर प्रदर्शन कर दिया ज्ञापन

अवधनामा संवाददाता

निज़ामाबाद/आज़मगढ़। तहसील पर वामपंथी दलों के प्रदेशव्यापी आंदोलन के तहत मंगलवार को तहसील  पर कम्युनिस्ट पार्टी के कार्यकर्ताओं ने महँगाई, खाद की किल्लत,धान क्रय आदि समस्याओं पर ग्यारह सूत्रीय मांगों को लेकर जोरदार प्रदर्शन के साथ नारेबाजी करते हुये मांगपत्र किसी अधिकारी के न रहने पर उपजिलाधिकारी कार्यालय में दिया गया। जुलूस में महँगाई,बेरोजगारी,कालाबाजारी के विरोध में लिखे नारों वाली तख्तियों,लाल झंडों के साथ गर्मजोशी भरे नारे लगाते हुये कार्यकर्ता तहसील के मुख्य द्वार पर पहुँचे।प्रदर्शन का नेतृत्व भाकपा,माकपा और भाकपा माले के नेताओं ने किया। इस अवसर पर भाकपा राज्य परिषद सदस्य अधिवक्ता जितेंद्र हरि पांडेय ने कहा कि पेट्रोल,डीजल के दामों में मामूली कमी जनता के लिए तोहफा नहीं बल्कि धोखा है।पेट्रोल,डीजल,रसोई गैस के दामों में लगभग दो वर्षों में जो वृद्धि हुई है उसे सरकार घटाये।उप्र से लेकर त्रिपुरा और देश के दूसरे भागों में अल्पसंख्यकों की प्रताड़ना पर रोक लगाई जाय और उसके जिम्मेदार लोगों को सजा दी जाय।पेट्रोल,डीजल,गैस को जीएसटी के अंदर लाया जाये और राज्यों का वैट हटाया जाय।
 भाकपा माले नेता ओपी सिंह ने कहा कि उप्र में खाद की किल्लत और कालाबाजारी इतनी पहले कभी न थी।धान की फसल की एमएसपी पर खरीद न होने से किसान औने पौने दाम पर बेच रहा है।उप्र और केंद्र सरकार की जनविरोधी नीतियों के चलते आमजन की कमर महंगाई से टूट चुकी है लोग आर्थिक बर्बादी के गर्त में धकेल दिये गये है। अन्य वक्ताओं ने कहा कि बीजेपी 2014 के लोकसभा चुनाव के पूर्व जिन नारों को लगाकर सत्ता में आई आज उनके उलट कार्य कर रही है।जिस सरकार की कथनी और करनी में अंतर है उसका पर्दाफास वामपंथी दल हमेशा करते रहेंगे। इस अवसर पर रामजीत प्रजापति, मंगल यादव, हरिगेन राम,लालचंद यादव, अजय कुमार तिवारी, डॉ जफर, अब्दुल्लाह, हीरालाल चौहान, अनील चौहान,चंद्रशेखर पांडेय,प्रभात, अवध बिहारी, रामप्रसाद बनबासी आदि उपस्थित रहे।