इलेक्ट्रिक लाइन कि सीआरएस ने किया निरीक्षण

इलेक्ट्रिक लाइनों में 25 हजार वोल्ट का करंट शुरू

 | 
इलेक्ट्रिक लाइन कि सीआरएस ने किया निरीक्षण

अवधनामा संवाददाता 

 गोसाईगंज -अयोध्या अयोध्या कैंट से अंबेडकरनगर तक के खंड का कार्य पूरा, आज हो रहा  फाइनल ट्रायल अब गोसाईगंज रेलवे स्टेशन पर भी दौड़ेगी। इलेक्ट्रिक रेल लाइन पर हुए विद्युतीकरण कार्य को बुधवार सीआरएस शैलेश कुमार पाठक ने बारीकी से जांच किया। दो चरणों में होने वाले विद्युतीकरण कार्य के निरीक्षण को लेकर मण्डल रेल प्रशासन ने शत-प्रतिशत कार्य का पूर्व में भी निरीक्षण किया। सीआरएस की स्वीकृत मिलने के बाद उक्त रेल लाइन पर विद्युत इंजन से ट्रेनों का दौड़ना शुरू हो जाएगा। निरीक्षण के दौरान सब कुछ सही पाया गया। गोसाईगंज स्टेशन निरीक्षक एम एन मिश्रा ने पत्रकारों को बताया कि सीआरएस शैलेंद्र पाठक के निरीक्षण के दौरान डीआरएम एस.के. छपरा भी रहे। उन्होंने बताया कि निरीक्षण में सब कुछ सही मिला है अब 31 दिसंबर से इस ट्रैक पर इलेक्ट्रिक ट्रेन दौड़ेगी। इस लाइन के विद्युतीकरण होने से डीजल की खपत कम होगी। इस ट्रैक पर इससे पूर्व शुक्रवार को 100 की स्पीड से इलेक्ट्रिक ट्रेन का ट्रायल पूरा हो जाने के बाद ये उम्मीद है कि इलेक्ट्रिक ट्रेन संचालन शुरू होने के बाद ट्रैक पर स्पीड 110 से 120 तक हो सकती है।

गोसाईगंज स्टेशन निरीक्षक एम एन मिश्रा ने बताया कि सीआरएस का मतलब कमीशन ऑफ़ रेलवे सेफ्टी होता है। यह उड्डयन मंत्रालय के अधीन होता है। रेलवे में जब कोई नया काम कंप्लीट होता है, जैसे कि नई रेल, नए रेलवे प्लेटफार्म, स्टेशन, पुल आदि तो उसका पब्लिक इस्तेमाल के पहले सीआरएस के द्वारा जांच की जाती है। जाँच के बाद ही  यूज किया जाता है।

 सदस्य मंडल रेल सलाहकार समिति पंकज सिंह ने कहा कि लोगों की यात्रा को सुलभ बनाने व डीजल जैसे महंगे पदार्थ की बचत में यह रेलवे का बड़ा कदम है। उन्होंने कहा कि 21वीं सदी का नया भारत आज एक से बढ़कर एक बेहतरीन आधुनिक इन्फ्रास्ट्रक्चर का निर्माण कर रहा है. बेहतरीन सड़कें, रेल नेटवर्क, एयरपोर्ट, ये सिर्फ इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट ही नहीं होते, बल्कि ये पूरे क्षेत्र का कायाकल्प कर देने वाले हैं, लोगों के जीवन में बदलाव लाएंगे हर किसी को इसका लाभ मिलता है।