पंचायत व मनरेगा विभाग में चरम पर पहुंचा भ्रष्टाचार

एक ही ब्लॉक में दशकों से तैनात हैं कम्प्यूटर आपरेटर और लेखा सहायक~शिव प्रकाश सिंह 

 | 
पंचायत व मनरेगा विभाग में चरम पर पहुंचा भ्रष्टाचार


अवधनामा संवाददाता 

सीतापुर शासनादेश की खुलेआम धज्जियां उड़ा रहा पंचायत विभाग से जुड़ा मनरेगा विभाग,विकास के लिए संचालित महत्वाकांक्षी योजनाओं को दफना कर, खुद करोड़पति बन रहे हैं जिम्मेदारों के विरुद्ध जांच होनी चाहिए!मनरेगा योजना के अंतर्गत कुल कार्यों में सृजित मानव दिवसों के भुगतान का चालीस प्रतिशत जनपद मुख्यालय पर पक्के कामों,सी सी,खड़ंजा,इंटर लॉकिंग सहित विकास कार्यों के लिए निर्गत किया जाता है!परन्तु शासनादेश के विरुद्ध काफी समय से एक ही ब्लॉक में तैनात लेखा सहायक व कम्प्यूटर आपरेटर सहित,कई ब्लाकों में एक साथ तैनात बी डी ओ,और कार्य से जुड़े जिम्मेदार अधिकारियों की मिली भगत से,खुलेआम विकास के नाम पर भेजी गई धनराशि को कागजों में समेट कर लूट की जा रही है!जनपद सीतापुर के उन्नीस ब्लाकों में मनरेगा सामग्री व्यय में प्रथम स्थान पर वि०ख० हरगांव में तैनात चर्चित बी डी ओ अजीत यादव के पास अक्सर कई ब्लाकों का कार्य क्षेत्र रहना?आयुक्त ग्राम्य विकास द्वारा इस संबंध में एक वर्ष पूर्व जारी शासनादेश का खुला उलंघन इस बात का प्रमाण है कि भ्रष्टाचार में लिप्त अधिकारी खुलेआम शासनादेश की धज्जियां उड़ा रहे है!विगत पंचायत चुनाव से पहले ग्राम पंचायतों के लिए गठित प्रशासनिक कमेटियों द्वारा तीन चार महीने में सीतापुर जनपद में करोड़ों रुपए का घोटाला किया गया, किसान मंच द्वारा सूचना अधिकार अधिनियम के अंतर्गत जनपद की सभी ग्राम पंचायतों में प्रशासनिक कमेटियों द्वारा हुए खर्च की सूचना मांगने पर जिला पंचायत राज अधिकारी सीतापुर द्वारा, लिखित बयान दिया गया कि यह सूचना~सूचना अधिकार अंतर्गत नहीं आती,एक दो गांव चाहे तो चिन्हित कर सूचना मिल जाएगी!किसान मंच प्रदेश प्रभारी/प्रदेश सचिव अखिल भारतीय प्रधान संघ शिव प्रकाश सिंह ने कहा कि अविलंब शासनादेश का पालन किया जाए!तीन वर्षों से अधिक समय से तैनात सभी कर्मचारियों के स्थानांतरण और भ्रष्टाचार में लिप्त जिम्मेदार अधिकारियों के विरूद्ध जांच सुनिश्चित कर,कार्रवाई की जाए!ऐसा न होने पर संगठन आंदोलन के लिए बाध्य होगा!