कमांडो ट्रेनिंग सेंटर :योगी सरकार की मंजूरी के बाद हलचल तेज

अवधनामा संवाददाता फ़िरोज़ ख़ान देवबंद (Feroz Khan) : योगी सरकार के देवबंद में कमांडो ट्रेनिंग सेंटर बनाने के फैसले से हलचल तेज हो गई है। युद्धस्तर पर काम जारी है। आधिकारी तौर पर भी तैयारियां तेज हो गई हैं। माना जा रहा है कि देवबंद में हाई लेवल का ट्रेनिंग सेंटर बनाया जा सकता
 | 

 

कमांडो ट्रेनिंग सेंटर :योगी सरकार की मंजूरी के बाद हलचल तेज

अवधनामा संवाददाता

फ़िरोज़ ख़ान देवबंद (Feroz Khan) : योगी सरकार के देवबंद में कमांडो ट्रेनिंग सेंटर बनाने के फैसले से हलचल तेज हो गई है। युद्धस्‍तर पर काम जारी है। आधिकारी तौर पर भी तैयारियां तेज हो गई हैं। माना जा रहा है कि देवबंद में हाई लेवल का ट्रेनिंग सेंटर बनाया जा सकता है। यहां से विश्‍वस्‍तर के एटीएस कमांडो तैयार किए जा सकते हैं। कमांडो ट्रेनिंग सेंटर देवबंद के जिला उद्योग की जमीन पर बनाना तय किया गया है।

अत्याधुनिक सुविधाओं से होगी लैस

अभी तक देवबंद में यूपी एंटी टेररिस्ट स्क्वॉड (एटीएस) के कमांडो सेंटर बनाने को लेकर कोई खाका सामने नहीं आया है, लेकिन यह बताया जा रहा है कि जिस तरह योगी सरकार एटीएस कमांडो सेंटर को लेकर गंभीर है, उसके मुताबिक यहां बनने वाले कमांडो प्रशिक्षण केंद्र में विश्वस्तरीय सुविधाएं विकसित की जा सकती है। एटीएस कमांडो के प्रशिक्षण और एटीएस के गोपनीय ऑपरेशनों को ध्यान में रखते हुए प्रशिक्षण केंद्र को अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस किए जाने की भी उम्मीद जताई जा रही है।

 बनाई गई थी सभासदों की एक कमेटी

सरकार की मंशा के अनुरूप प्रशासन द्वारा लंबे समय से इल्म की नगरी देवबंद में एटीएस कमांडो सेंटर खोले जाने की कवायद के तहत जमीन तलाश की जा रही थी। इसी कड़ी में कई माह पूर्व नगरपालिका परिषद बोर्ड की बैठक में श्री त्रिपुर मां बाला सुंदरी देवी मेला प्रांगण में 2000 वर्ग मीटर जमीन की उपलब्धता को प्रस्ताव रखा गया था। इसके लिए सभासदों की एक कमेटी भी बनाई गई थी। कमेटी ने जांच भी की। लेकिन मेले के लिए जमीन कम पडऩे के चलते कमेटी की रिपोर्ट के बाद उक्त प्रस्ताव पास नहीं हो पाया। अब जिला प्रशासन की सहमति के बाद रेलवे रोड स्थित जिला उद्योग केंद्र की भूमि पर एटीएस कमांडो सेंटर खोला जाएगा। यूपी सरकार ने इसका ऐलान भी कर दिया है।

राजकीय पायलट वर्कशाप है स्थित

रेलवे रोड पर जिस स्थान पर एटीएस कमांडो सेंटर बनेगा। वहां लंबे समय से राजकीय पायलट वर्कशाप भवन स्थित है। उक्त वर्कशाप में आईटीआई के विभिन्न ट्रेड का बच्चों को प्रशिक्षण दिया जाता था। बाद में उक्त भवन झबीरण गांव में स्थानांतरित कर दिया गया। उक्त भवन अब जर्जर हो चला है और काफी समय से उक्त भवन खाली पड़ा हुआ है।

लखनऊ में है एटीएस कमांडो ट्रेनिंग सेंटर

उत्‍तर प्रदेश के लखनऊ में अमौसी इलाके में ऐसा ही एटीएस का प्रशिक्षण केंद्र है। वहां भी आधुनिकीकरण का काम तेजी से चल रहा है। अमौसी के प्रशिक्षण केंद्र में भी जनपदीय स्वॉट टीमों को भी खतरनाक ऑपरेशन को कुशलता से अंजाम देने, अपराध और आतंकवाद की घटनाओं पर प्रभावी नियंत्रण की व्यवसायिक दक्षता का प्रशिक्षण लगातार दिया जाता है।