खुले प्लाटों में करायी जाये सफाई व फॉगिंग

वार्डवासियों ने उठायी कार्यवाही किये जाने की मांग

 | 
खुले प्लाटों में करायी जाये सफाई व फॉगिंग

अवधनामा संवाददाता


ललितपुर। वार्ड नंबर 12 शहर के मोहल्ले में खाली पड़े प्लाटों पर जमकर गंदगी अंबार लगा हुआ है, जिससे समस्त मोहल्लावासी परेशान हैं। रास्ते में गड्ढ़े और कीचड़ होने से आवागमन में दिक्कत हो रही है। शासन द्वारा स्वच्छता अभियान पर करोड़ों रुपये खर्च किए जा रहे हैं। लेकिन, मां शारदा इंटर कॉलेज के पीछे स्वच्छता अभियान के कोई मायने नहीं हैं। मोहल्ले में बीच रास्ते पर गड्ढों में गंदगी और पूरे रास्ते में कीचड़ भरा हुआ है। इससे लोगों को आवागमन में परेशानी हो रही है। मोहल्लेवासियों का कहना है कि सड़क और नाली नहीं होने से रास्ते में कीचड़ भरा रहता है, जिससे निकलने में परेशानी हो रही है। कीचड़ से मच्छर उत्पन्न हो रहे हैं। लेकिन नगर पालिका द्वारा वार्डों में ना ही फॉकिंग कराई जाती है और ना ही कीटनाशक दवाओं का छिड़काव किया जाता है जिससे  मच्छरों का प्रकोप अधिक बना रहता है   समस्या के संबंध में मोहल्लवासियों ने ज्ञापन के माध्यम से प्रशासन को अवगत कराया, लेकिन समाधान नहीं हो सका। मोहल्ले बालो का कहना किरण का कहना है कि हमारे मोहल्ले में अभी तक सड़क और नाली नहीं बनाई गई, जिससे सभी के घरों का गंदा पानी बीच रास्ते में भरा रहता है। अगर सड़क और नाली बन जाती तो मोहल्लेवासियों की समस्या का हल हो जाता। वहीं मोहल्ले के ही रोहित का कहना है कि सड़क और नाली नहीं होने से कीचड़ रास्ते में भरा रहता है। इससे निकलने में परेशानी हो रही है। बदबू से घर के बाहर खड़े भी नहीं हो पाते हैं। नगर पालिका को अवगत कराया गया, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। इधर बलराम का कहना है कि मोहल्ले में गंदा पानी और कीचड़ भरा होने से बीमारियों के फैलने का अंदेशा है। घर के सामने ही इतनी बड़ी समस्या होने से मोहल्लेवासी परेशान हैं। प्रशासन को इस ओर ध्यान देना चाहिए। मोहल्ले में कीचड़ भरा होने के कारण मच्छरों का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। मलेरिया फैलने का खतरा है। उक्त समस्या से मोहल्ले के सब लोग परेशान हैं। ज्ञापन देने के बाद भी समस्या हल नहीं हुई। सुरेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि मोहल्ले में नाली नहीं होने के कारण सभी के घरों का गंदा पानी सड़क पर ही भर जाता है। इसके कारण तरह- तरह की बीमारियां फैल रहीं हैं। लोगों का इस सड़क से निकलना भी मुश्किल हो गया है। नगर पालिका को समस्या के प्रति गंभीर होना चाहिए।