सरकारी धन का प्रयोग दूसरे मदों मे करके , बडी हेराफेरी कर रहा है प्रांतीय खंड

इनकी दर्जनो शिकायते लंबित हैं राज्य सूचना आयोग मे ~

 | 
सरकारी धन का प्रयोग दूसरे मदों मे करके , बडी हेराफेरी कर रहा है प्रांतीय खंड 

अवधनामा संवाददाता
 

बाँदा  लोक निर्माण विभाग बाँदा के प्रांतीय खंड के कारनामों की यदि शासन से कडाई से जांच हो जाये तो अरबों का घोटाला सामने आ जायेगा ।

बाँदा मे प्रांतीय खंड के अधिशाषी अभियंता सुमंत कुमार पहले बाँदा मे ही इसी विभाग मे सहायक अभियंता थे जो शासन की कृपा से अब अधिशाषी अभियंता बने हुये हैं और इनके ऊपर वित्तीय अनियमितता और टेंडरो एवं निर्माण मे घोटाले की दर्जनों शिकायते राज्य सूचना आयोग के पास पडी हैं । 

अभी ताजा मामला जिला मुख्यालय मे बन रहे डिवाइडर को लेकर है जिसकी शिकायत पूर्व मे समाजवादी पार्टी के नेता सुशील त्रिवेदी ने आयुक्त महोदय से की थी परंतु उस समय अधि. अभि. सुमंत कुमार ने बताया था कि उनको पैसा डिवाइडर के कार्य का नही दिया गया था जबकि सूचना के अधिकार से प्राप्त जानकारी मे स्पष्ट हुआ है कि पैसा डिवाइडर के कार्य के लिये ही आया था परंतु उसको सुमंत कुमार ने किसी दूसरे निर्माण मे व्यय कर दिया था और जब मामले मे तूल पकडा तो पुनः डिवाइडर के निर्माण के नाम पर पुनः धन आवंटित करा लिया जबकि शासनादेश मे स्पष्ट है कि जिस मद के निर्माण के लिये धन निर्गत होगा उसी मद के निर्माण मे व्यय होगा और यदि व्यय नही हो पा रहा है तो उसे शासन को वापस देना हौगा , परंतु उसको दूसरे कार्य के लिये व्यय करना कानूनन गलत है जिस पर सजा और जुर्माने दोनो  का प्रावधान है । अभी ऐसा ही कारनामा बाईपास मे बन रही सडक के पुर्ननिर्माण मे है जहां बडे पैमाने पर निर्माण के मापदंडो को किनारे करके भ्रष्टाचारी सडक बनायी जा रही है जिसकी गुणवत्ता शायद इतनी भी नही है कि एक वर्ष चल सके ।

सुशील त्रिवेदी ने बताया कि हमने लगभग एक दर्जन शिकायते सूचना के अधिकार के अंर्तगत की थी जिसमे औगासी पम्प कैनाल की शिकायत के सारे साक्ष्य राज्य सूचना आयोग को भेजे गये हैं परंतु अधिशाषी अभियंता सुमंत कुमार की पकड सरकार मे होने के कारण इन्होने भ्रष्टाचार के मामले मे पूरी योगी सरकार को कटघरे मे खडा कर दिया है ।