तीस सालों तक सांपों के बीच जिंदगी बिताने वाला बुद्धू की सांप के काटने पर हुई मौत

 | 
तीस सालों तक सांपों के बीच जिंदगी बिताने वाला बुद्धू की सांप के काटने पर हुई मौत

अवधनामा संवाददाता
 

मोहम्मदी-खीरी (Mohammadi-Kheri)। कोतवाली क्षेत्र के ग्राम अमीर नगर में तीस सालों तक सांपों के बीच जिंदगी बिताने वाला बुद्धू की सांप के काटने पर मौत हो गई। बुद्धू की मौत की खबर पर लोगों में गमगीन माहौल पैदा हो गया है। बुद्धू ने सैकड़ों लोगों की सांप डंसने पर उनकी जान बचाई थी उसके इस जज्बे को लोग सलाम करते थे और यह हुनर बुद्धू ने पीलीभीत के नौसे खान से बचपन में ही सिखा था। सबसे  महत्वपूर्ण बात यह थी वह किसी से पैसा नहीं लेता था बल्कि सेवा करता चला आ रहा था। इस कार्य के लिए कहीं पर जाना पड़ता तो बुद्धू जरा सा आलस्य नहीं करता था और सांप के शिकार बने पीड़ित की जिंदगी बचाने में अपने को धन्य मानता था। उसके इस पुन्य कार्य को लेकर उसका नाम सदैव सुर्खियों रहता था जबकि दूसरों की जान सलामत रखने की बुद्धू की आदत बन चुकी थी और  बुद्धू आखिरकार सांपों से खेलते खेलते सांपों का सांप का ही शिकार बन गया और जिंदगी की आखिरी  सांसे सांपों के बीच ली।  अमीर नगर के ग्राम देवरिया निवासी बुद्धू की उम्र 55 साल जो तीस वर्षों से सांपों के बीच खेलता चला रहा है और बड़े बड़े खतरनाक सांपों को पकड़ लेना तो जैसे उसे महारत हासिल थी और तमाम जहरीले सांपों को काटने के बाद उसका जहर मुंह से खिंच लेता था जो उसके लिए एक आम बात थी। इसलिए बुद्धू का नाम क्षेत्र में ही नहीं बल्कि सांप काटने और पकड़ने को लेकर काफी दूर तक शोहरत बनी हुई थी। जो ख़तरनाक सांपों को पकड़ कर बाहर ले जाकर छोड देता था। बुद्धू की पत्नी सैरुन निशां ने बताया कि 28 अगस्त को गांव देवरिया के निकट बरसों पुराने ईंटो के चटटे में ख़तरनाक सांप होने की सूचना मिली।   खबर मिलते ही बुद्धू अपने साहस विवेक से सांप को तो पकड़ लिया परन्तु सांप  ने उसके डस लिया जिससे उसके शरीर में जहर फैल गया। जिससे बुद्ध लोगों के सामने हंसते हंसते दुनिया से रुखसत हो गया। इस तरह से बुद्धू सांपों से लगभग तीस सालों से खेलता चला रहा था और सांपों के जरिए ही लोगों को काटने पर खुद जहर को पीता था जिसके बाद उसके द्वारा जहर पी लेने पर लोग ठीक हो जाते थे। बुद्धू समाज सेवा का यह कार्य लगभग तीस वर्षों से करता चला रहा था कभी किसी से किसी प्रकार का पैसा नहीं लेता था बल्कि यह कहता था कि मै इस लायक हूं कि लोगों की जिंदगी में जहर को खत्म करना उसका कर्तव्य है। ग्राम पंचायत के प्रधान प्रतिनिधि मोहम्मद सलाम खान बताया कि इसकी मौत से समाज को दुःख हुआ है। वही प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में तैनात डाक्टर सुधांशु वर्मा का कहना है कि यदि किसी को सांप काट ले तो उसे तुरन्त अपने नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र पर जाकर इन्जेक्शन लगवाना चाहिए।